कुलभूषण जाधव के खिलाफ संयुक्‍त राष्‍ट्र को डोजियर सौंपने की तैयारी में पाक

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः पाकिस्तान ने भारतीय नौसेना के रिटायर्ड अधिकारी कुलभूषषण जाधव के खिलाफ आरोप-पत्र और सैन्य अदालत द्वारा उन्हें सुनाई गई फांसी की सजा के आदेश की प्रमाणित प्रति देने की भारत की मांग का अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है। लेकिन वह जाधव पर आतंकी गतिविधि चलाने के आरोपों वाला डोजियर संयुक्त राष्ट्र व विदेशी राजनयिकों को सौंपने की तैयारी में है। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा है कि हमने पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय से आरोप-पत्र तथा फांसी की सजा के फैसले की प्रमाणित प्रति मांगी, लेकिन पाकिस्तान की ओर से अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है।’ भारत पहले ही कह चुका है कि वह जाधव की फांसी की सजा के खिलाफ अपील करेगा। शुक्रवार को पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त गौतम बंबावले ने वहां के विदेश सचिव तहमीन जंजुआ से मुलाकात कर आरोप-पत्र तथा फैसले की प्रमाणित कॉपी की मांग की थी। साथ ही जाधव से संपर्क करने देने का भी आग्रह किया था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान ने डोजियर को जाधव के ‘कबूलनामे’ और सैन्य अदालत में दिए गए बयानों के आधार पर तैयार किया है। इनमें जाधव को कराची और बलूचिस्तान में जासूसी तथा पाकिस्तान विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने का दोषषी पाया गया है। हालांकि भारत ने सार्वजनिक हुए उस कबूलनामे पर सवाल उठाए हैं और उसे तथ्यों से परे बताया है। अदालत में हुई सुनवाई भी संदेह के घेरे में है। जाधव को मदद के लिए न कोई वकील दिया गया और न ही सुनवाई प्रक्रिया को सार्वजनिक किया गया। सैन्य अदालत की चंद रोज की सुनवाई में ही 46 वर्षीय जाधव को मौत की सजा दे दी गई और उसे पाकिस्तानी सेना के जनरल कमर जावेद बाजवा ने भी स्वीकृति दे दी। गिरफ्तारी और अदालती प्रक्रिया के सवालों के घेरे में आ जाने के बाद अब पाकिस्तान उसे तथ्यगत बनाने में जुटा है। इसी के तहत तिथिवार पूरी कहानी तैयार की जा रही है, जिसे डोजियर की शक्ल में संयुक्त राष्ट्र और पाकिस्तान में कार्यरत विदेशी राजनयिकों को सौंपा जाएगा। पाकिस्तान का दावा है कि उसने जाधव को 3 मार्च, 2016 को पाकिस्तानी इलाके से गिरफ्तार किया था और वह भारतीय नौसेना का कार्यरत अधिकारी है। मालूम हो कि भारतीय नागरिक जाधव को ईरान से अगवा करके तालिबान ने पाकिस्तानी एजेंसियों को सौंपा था, जिसे बाद में भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ का एजेंट ठहराकर पाकिस्तान में फांसी की सजा सुनाई गई है। भारत ने जाधव को बचाने का अभियान छोड़ रखा है।

Share This Post

Post Comment