सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन को योगी आदित्‍यनाथ समेत कई हस्‍तियों ने दी श्रद्धांजलि

सर्वपल्‍ली राधाकृष्‍णन को योगी आदित्‍यनाथ समेत कई हस्‍तियों ने दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः स्‍वतंत्र भारत के पहले उप राष्ट्रपति, दूसरे राष्ट्रपति और दिग्गज शिक्षाविद् सर्वपल्ली राधाकृष्‍णन का जन्‍म तमिलनाडु के तिरुत्‍तानी में 5 सितंबर 1888 को हुआ था और लंबी बीमारी के कारण 1975 में आज के दिन उनका निधन हो गया। आज उनकी पुण्‍यतिथि के मौके पर देश के दिग्‍गजों ने श्रद्धांजलि अर्पित किया। उन्‍होंने भारत के पहले उप राष्‍ट्रपति के तौर पर 1952 से 1962 तक अपने दो कार्यकाल पूरे किए। इसके बाद 1962 से 1967 तक उन्‍होंने दूसरे राष्‍ट्रपति के तौर पर देश की बागडोर संभाली। राधाकृष्‍णन ने गौतम बुद्धा, जीवन और दर्शन, धर्म और समाज, भारत और विश्व आदि किताबें भी लिखीं। शिक्षा और राजनीति में योगदान के लिए 1954 में उन्हें देश के सर्वोच्‍च मानद सम्‍मान ‘भारत रत्‍न’ से उन्‍हें सम्‍मानित किया गया। हर वर्ष 5 सितंबर को उनकी जयंती को पूरे देश में शिक्षक दिवस के तौर पर मनाया जाता है और शिक्षकों को उनके योगदान के लिए सम्‍मानित किया जाता है। 1962 में उन्हें ‘ब्रिटिश अकेडमी’ का सदस्य बनाया गया। पोप जॉन पाल ने ‘गोल्डन स्पर’ भेंट किया। ब्रिटिश सरकार की ओर से उन्हें ‘आर्डर ऑफ मेरिट’ का सम्मान मिला। लंबी बीमारी के बाद 17 अप्रैल 1975 को उनका निधन हो गया। राधाकृष्णन को मरणोपरांत 1975 में अमेरिकी सरकार ने टेम्पलटन पुरस्कार से सम्मानित किया। यह पुरस्कार धर्म के क्षेत्र में उत्थान के लिए प्रदान किया जाता है। इसे ग्रहण करने वाले वे प्रथम गैर-ईसाई संप्रदाय के व्यक्ति थे।

Share This Post

Post Comment