भारत का सख्त रुख, जाधव की फांसी को मानेंगे हत्या

भारत का सख्त रुख, जाधव की फांसी को मानेंगे हत्या

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः पाकिस्तान द्वारा कथित भारतीय जासूस कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाए जाने के बाद देश में माहौल गर्माया हुआ है। वहीं इस मामले पर भारत ने भी पाकिस्तान को करारा जवाब देते हुए कहा है कि अगर कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी कानून न्याय के मूलभूत नियमों को अनदेखा करते हुए’ दी गई मौत की सजा देता है तो यह सुनियोजित हत्या होगी। पाकिस्तान के उच्चआयुक्त अब्दुल बासित को भारतीय विदेश सचिव एस जयशंकर ने को तलब कर बेहद कड़े शब्दों का डिमार्शे दिया। जिसमें कहा गया है कि बिना किसी पुख्ता सबूत के अगर पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को सजा देती है तो यह हास्यास्पद’ है। पाकिस्तान में जासूसी करने और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने के आरोप में भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को मौत की सजा सुनाई गई है, जिस पर भारत ने पाकिस्तान को सख्त लहजे में चेतावनी दी। बता दें पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने सोमवार को कहा कि फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल ने जाधव को मौत की सजा सुनाई। सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा ने इसकी पुष्टि की। आईएसपीआर ने एक संक्षिप्त बयान में कहा है कि भारतीय नौसेना का अधिकारी जाधव भारत की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) से जुड़ा था, जो हुसैन मुबारक पटेल नाम का इस्तेमाल करता था। वहीं, भारतीय अधिकारियों ने पाकिस्तान के आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि वह अब नौसेना के लिए काम नहीं करते। जाधव को तीन मार्च, 2016 को बलूचिस्तान के माशकेल इलाके में पाकिस्तान के खिलाफ जासूसी तथा विध्वंसकारी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। गौरतलब हो कि पाकिस्तान ने 30 मार्च 2016 को एक वीडियो जारी किया था जिसमें कुलभूषण यादव को यह कहते हुए दिखाया गया कि उन्होंने भारतीय खुफिया एजेंसी ‘रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ)’ के इशारे पर कराची और बलूचिस्तान में कई गतिविधियों का संचालन किया और वह अब भी भारतीय नौसेना से जुड़े हैं। भारत ने इस वीडियो की सत्यता पर सवाल उठाए थे। गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा था कि पाकिस्तान द्वारा बनाए गए इस वीडियो का अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कोई प्रभाव नहीं होगा।

Share This Post

Post Comment