गुजरात के पूर्व डीआईजी बंजारा ने आसाराम बापू को बताया निर्दोंष

मुंबई, महाराष्ट्र/हर्षद जोशीः 9 अप्रैल को गुजरात के पूर्व डीआईजी जीडी बंजारा ने राजस्थान की जोधपुर जेल में बंद सुप्रसिद्ध कथावाचक संत आसाराम बापू से मुलाकात की। बंजारा बापू को अपना धार्मिक गुरू मानते हैं। मुलाकात के दौरान बंजारा ने बापू को भरोसा दिलाया कि जोधपुर की जेल से बाहर निकालने के लिए हर संभव कानूनी प्रयास किए जाएंगे। इस मुलाकात में बंजारा और बापू भाव-विभोर भी हो गए। बंजारा ने यह भी जाना कि जोधपुर की जेल में बापू को कितनी सुविधाएं मिल रही हैं। उन्होंने जेल के अधिकारियों से भी कहा कि बापू एक धार्मिक संत हैं, इसलिए उनके साथ अच्छा व्यवहार किया जाना चाहिए। जेल से बाहर आने पर बंजारा ने मीडिया से कहा कि बापू निर्दोंष हैं। बड़े से बड़े जुर्म में भी आरोपियों को जमानत पर छोड़ा जाता है, लेकिन इसे अफसोसनाक ही कहा जाएगा कि आसाराम जैसा संत पिछले चार साल से जेल में बंद है। उन्होंने कहा कि वे कानूनी प्रक्रिया के अन्तर्गत बापू को जल्द से जल्द जेल से बाहर लाएंगे। मालूम हो कि आसाराम एक नाबालिग लड़की के यौन शोषण के आरोपी है। बापू को राजस्थान की पुलिस ने जब गिरफ्तार किया था, जब कांग्रेस की सरकार थी और अशोक गहलोत मुख्यमंत्री थे। बापू ने तब भी यह आरोप लगाया था कि राजनीतिक कारणों से मुझे झूंठे आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

Share This Post

Post Comment