धूम्रपान से मरने वाले टॉप 4 देशों में भारत भी शामिल

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः दुनिया भर में मरने वाले हर 10 व्यक्तियों में से एक से अधिक व्यक्ति की मौत धूम्रपान की वजह से होती है। इसमें 50 से अधिक मौत सिर्फ चार देशों में होती है और ये देश हैं- भारत, चीन, रूस और अमेरिका। साल 2015 में दुनिया में धूम्रपान करने वाले लोगों में से करीब 51.4 प्रतिशत लोग इन्ही 4 देशों के हैं। हाल ही में ‘द लैनसेट’ में प्रकाशित ‘द ग्लोबल बर्डन ऑफ़ डिजीज’ के अध्ययन में यह बात सामने आई है। इस अध्ययन के मुताबिक़ साल 2015 में विश्वभर में हुई 64 लाख लोगों की मौत में 11 फीसदी से अधिक लोग धूम्रपान की वजह से मर गए थे। विश्व में धूम्रपान करने वाली कुल आबादी का 11.2 फीसदी हिस्सा भारत में रहता है। सर्वे के अनुसार साल 2005 की तुलना में साल 2015 में धूम्रपान से होने वाली मौत में 4.7 फीसदी की वृद्धि हुई है। धूम्रपान का स्वास्थ्य पर बहुत बुरा असर पड़ता है और यह अक्षमता का दूसरा सबसे बड़ा कारण बन गया है। इससे पहले यह अक्षमता का तीसरा सबसे बड़ा कारण था। सरकारी अनुमान के मुताबिक भारत में हर रोज़ 5550 युवक तम्बाकू के सेवन की शुरुआत करते हैं, जबकि करीब 35 प्रतिशत एडल्ट्स इसका किसी न किसी प्रकार से सेवन करते हैं। 25 प्रतिशत से अधिक लड़कियां 15 साल की उम्र से पहले ही तम्बाकू का सेवन करती हैं। धूम्रपान करना सेहत के लिए काफी हानिकारक है और इससे कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी होती है। आज के इस ज़माने में केवल मर्द ही सिगरेट नहीं पीते बल्कि बड़े पैमाने पर महिलाएं भी धूम्रपान करती हैं। इस अध्ययन में बताया गया है कि महिलाओं द्वारा धूम्रपान करने के मामले में तीन अग्रणी देश अमेरिका, चीन और भारत हैं। यहां विश्व में धूम्रपान करने वाली महिलाओं की 27.3 फीसदी आबादी रहती है।

Share This Post

Post Comment