सैनिकों के लिए 7.60 लाख मेडल खरीदेगी मोदी सरकार

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः एक ओर सरकार जहां सेना को आधुनिक बनाने के लिए लड़ाकू विमान, सबमरीन और मशीन गन खरीद रही है तो वहीं जवानों का सम्मान बढाने के लिए 7.60 लाख मेडल भी खरीदने जा रही है। सरकार इसके लिए लगभग 28 करोड़ रुपये खर्च करेगी। सरकार और नौकरशाह के उदासीनता के चलते जवानो को मेडल देने को कभी भी गंभीरता से नहीं लिया गया। बता दें कि, यूनिफार्म पर मेडल लगना किसी भी जवान के लिए सबसे ज़्यादा गर्व की बात होती है। मेडल मतलब युद्ध के मैदान में किये गए वीरता के काम का प्रतिक होता है. मगर मेडल्स की कमी के चलते घोषणा होने के बाद भी जवानों को ये नहीं मिल रहे थे। कई बार तो जवानों को बाज़ार से इसकी प्रतिकृति खरीदकर यूनिफार्म पर लगाना पड़ता था। सरकार अब बॅलेस्टीक हेलमेट और बुलेट प्रूफ जैकेट के साथ सेना के जवान और अफसरों के लिए 7.60 लाख मेडल खरीदने जा रही है। ज्ञात हो कि पिछले साल 16.28 लाख सेवा पदक की कमी थी। सेना, नौसेना और वायुसेना के जवानों को मेडल घोषित तो हुए मगर उन्हें मिले नहीं। इसी की वजह से सेना के जवानों को बाज़ार से मेडल की प्रतिकृति खरीदकर उसे अपने यूनिफार्म पर लगाना पड़ रहा था। सरकार ने अब फैसला किया है कि वह जल्द ही मेडल का सुखा खत्म करते हुए 7.60 लाख मेडल की खरीदारी करेगी और जवानों को इसे प्रधान करेगी ताकि उनका मनोबल और बढ़ जाये।

Share This Post

Post Comment