हादसे में बहन को खोने वाले वाड्रा का झलका दर्द, हाईवे पर शराब बंदी का किया समर्थन

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले का स्वागत किया है जिसमें कोर्ट ने नेशनल और स्टेट हाईवे के 500 मीटर को दायरे में आने वाली शराब की दुकानों को बंद किया जाए। उन्होंने कहा कि इसका प्रतिष्ठित प्रतिष्ठानों और उसके कर्मचारियों पर इसका प्रभाव नहीं होना चाहिए। दरअसल रॉबर्ट वाड्रा की बहन मिशेल वाड्रा की साल 2001 में एक रोड एक्सीडेंट में मौत हो गई थी। वाड्रा की बहन का एक्सीडेंट दिल्ली-जयपुर हाईवे पर हुआ। बताया जाता है कि शराब पिए हुए एक कार चालक ने उनकी बहन का एक्सीडेंट कर दिया था। वाड्रा ने अपने दर्द को फेसबुक पर बयां करते हुए कहा कि फेसबुक पर वाड्रा ने लिखा कि सुप्रीम कोर्ट का ये फैसला सम्मान और प्रशंसा के योग्य है। वाड्रा ने लिखा कि रोड सेफ्टी की दिशा में ये एक बड़ा कदम होगा। सड़कों पर सुरक्षा मानदंडों के प्रति उदासीन होने के कारण दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में अपनी बहन (वह सिर्फ 33 साल की थी) को खो चुका हूं। उन्होंने लिखा कि सुप्रीम कोर्ट का ये निर्णय रोड सेफ्टी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। मैंने अपनी बहन को रोड एक्सीडेंट में खोया था। मैं हाईवे के किनारे शराब की दुकानों पर लगे बैन का पूरी तरह से समर्थन करता हूं। हालांकि उन्होंने इससे होने वाले नुकसान का भी जिक्र किया और कहा कि हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री पर इसका बुरा प्रभाव पड़ेगा और बहुत से कर्मचारी इससे प्रभावित हो सकते हैं। उन्होंने शराब की ब्लैकमेलिंग के बारे में लिखा कि कुछ विक्रेता शराब बेईमानी करके बेच रहे हैं और ये आदेश का उल्लंघन है। इससे भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा।

Share This Post

Post Comment