ऑटोमोबाइल कंपनियों को झटका: पूरे देश में बीएस-3 वाहनों की बिक्री पर सुप्रीम कोर्ट की रोक

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण की समस्या पर गंभीरता से विचार करते हुए एक सख्त फैसला सुनाया है। इससे वाहन कंपनियों को बड़ा झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने 1 अप्रैल से पूरे देश में बीएस-3 वाहनों की बिक्री पर रोक लगा दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस वक्त कंपंनियों के पास 8 लाख से ज्यादा बीएस-3 वाहनों का जखीरा है। 1 अप्रैल से भारत में बीएस-4 उत्सर्जन मानक प्रभावी हो रहा है। कंपनियों के वकील ने कोर्ट में अर्जी दी थी कि स्टॉक में पड़ी गाड़ियों की बिक्री की अनुमति दे दी जाए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह मामला सीधे तौर पर लोगों के स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है। ऐसे में हम कंपनियों के फायदे के लिए लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकते। कोर्ट ने कहा कि लोगों का स्वास्थ्य ज्यादा महत्वपूर्ण है और ये गाड़ियां स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं। वाहन विनिर्माताओं के संगठन की दलील थी कि बीएस-तीन वाहनों के स्टॉक को बेचने के लिए अदालत एक साल का समय दे दे। माना जाता है कि ऑटो कंपनियों के अभी स्टॉक में बीएस-3 गाड़ियां में करीब 6 लाख टू व्हीलर, 40 हजार थ्री व्हीलर, 96 हजार व्यावसायिक वाहन और 16 हजार कारें हैं। अदालत के इस ताज़ा फैसले के बाद इन 8 लाख गाड़ियों की बिक्री नहीं की जा सकेगी।

Share This Post

Post Comment