सेल्फी लेते समय भाई बहन अलकनंदा नदी में बहे

रूद्रप्रयाग, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः बुआ के घर आए नाबालिग भाई-बहन सेल्फी लेते वक्त अलकनंदा नदी में बह गए। दोनों का कुछ पता नहीं चल पाया। गोताखोर टीमें उनकी तलाश में जुटी हैं। करीब डेढ़ महीने पहले भी एक छात्रा इसी तरह अलकनंदा में डूब गई थी। रुद्रप्रयाग जिले के गुप्तकाशी क्षेत्र की ग्राम सभा ब्यूंग निवासी जगदीश सेमवाल का पंद्रह वर्षीय बेटा साहिल और तेरह वर्षीय बेटी सावली स्कूल की छुटि्टयों के चलते तीन रोज पहले गौचर के नजदीक अपनी बुआ के घर निरवाली गांव आए थे। रविवार दोपहर भाई-बहन पड़ोस की एक बच्ची को साथ लेकर घूमने के लिए निकले। तीनों करीब आधा किलोमीटर दूर बदरीनाथ मार्ग पर शिवनंदी के नजदीक अलकनंदा तट पर पहुंचे। वहां साहिल और सावली नदी किनारे खड़े होकर मोबाइल से सेल्फी लेने लगे, जबकि साथ आई तीसरी बच्ची कुछ दूर से उन्हें देखने लगी। इसी दरम्यान साहिल का पैर फिसल गया और उसके बाद असंतुलित होकर भाई-बहन नदी में जा गिरे। तेज बहाव में देखते ही देखते दोनों आंखों से ओझल हो गए। साहिल नवीं और सावली आठवीं की छात्रा है। पुलिस के गोताखोरों ने बच्चों की तलाश की, लेकिन उनका कुछ पता नहीं चला। बच्चों के पिता जगदीश सेमवाल आइटीबीपी जवान हैं और वर्तमान में गौचर में तैनात हैं। काबिलेगौर है कि तीन फरवरी को कोटेश्वर मंदिर के निकट पौड़ी निवासी ग्यारहवीं की छात्रा आशना भी सेल्फी लेते वक्त अलकनंदा में गिर गई थी। वह सहपाठियों के दल के साथ पौड़ी से कोटेश्वर मंदिर आई हुई थी।

Share This Post

Post Comment