कॉलेजों की स्वायत्तता को लेकर दिल्ली विश्वविद्यालय में बढ़ा विरोध

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः कॉलेजों की स्वायत्तता के खिलाफ दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में विरोध बढ़ता जा रहा है। अब डीयू के विद्वत परिषद के सदस्य हंसराज सुमन ने भी इसका विरोध किया है। बुधवार को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) मुख्यालय पर डीयू के शिक्षक प्रदर्शन करेंगे। हंसराज सुमन का कहना है कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के दिशा-निर्देशों से साफ पता चलता है कि उच्च शिक्षा की गुणवत्ता के नाम पर सरकार इसका निजीकरण करना चाहती है। इन संस्थानों की रैंकिंग निजी एजेंसियों द्वारा तय की जाएगी और वे जो मानक बनाएंगे, उसी आधार पर विश्वविद्यालयों में पाठ्यक्रम, फीस और परीक्षा मूल्यांकन आदि तय किए जाएंगे। हंसराज सुमन ने कहा कि इन स्वायत्त कॉलेजों में ज्यादा फीस रखी जाएगी, जिससे पिछड़े और अति पिछड़े वर्गो के छात्र उच्च शिक्षा से वंचित रह जाएंगे। 24 राज्यों के विश्वविद्यालयों में 595 कॉलेजों को स्वायत्तता मिली है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के निजीकरण को रोकने और केंद्र सरकार पर दबाव बनाने के लिए एससी-एसटी ओबीसी टीचर्स फोरम डीयू में एक कार्यशाला आयोजित करेगा। उसकी एक रिपोर्ट भी मंत्रालय को भी सौंपी जाएगी।

Share This Post

Post Comment