“गाय के लिए चारे की भारी कमी”

“गाय के लिए चारे की भारी कमी”

बैंगलोर, कर्नाटका/महेन्दर राजपुरोहितः बेंगलूरु. प्रदेश में कोल्लेगल तालुक की 27 ग्राम पंचायतों में चारे की भारी कमी है। पहले किसान व पशुपालक अपनी गायों को चरने के लिए जंगल में छोड़ दिया करते थे, लेकिन पिछले 3 साल से वन विभाग ने गायों के जंगल में प्रवेश पर रोक लगा दी है। तब से चारे का संकट बढ़ गया है। कई किसानो व पशुपालको ने उम्मीद नहीं हारी हैं वे उम्मीद कर रहे हैं कि मदद मिलेगी ( गोपीनाथम, माले महादेश्वरा, पोन्नची, मट्टालि, कौडली, कोरातिहोसुर, हुगयाम, मीनियम, दिन्नली, रामपुरा, बासप्पनदोडी, अजिपुरा, येलेमला, मनगल्ली, बंडली,शग्य, मंगला, कोंगरहल्ली, कन्नूर, बेल्लतुर, चिकमालापुरा, पीजी पालिया, लोककानाहल्ली, सुत्तूर, बैलूर, दोडलातूूर, वोडररापा) कोल्लेगल क्षेत्र में गायो का चारे, पानी और चिकित्सा संसाधनों की कमी के कारण पीड़ित हैं। ध्यान फाउंडेशन, वहाट्स फाउंडेशन, हेल्पिंग हैंड्स बी गुड़ डू गुड़, मारुति मेडिकल विजननगर, सिद्धार्थ मेडिकल और अन्य एनजीओ इन गौवंशो को मुफ्त चारा और दवाइयां प्रदान करने में लगे हुए हैं।

Share This Post

Post Comment