विमान में मारपीट करने वाले शिवसेना सांसद की विमान यात्राओं पर लगा बैन

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः एयर इंडिया के विमान में एक अधिकारी से मारपीट करने वाले शिवसेना सांसद रविंद्र गायकवाड़ को अपनी शर्मनाक हरकत के लिए चौतरफा आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। सूत्रों के मुताबिक फेडरेशन ऑफ इंडियन एयरलाइंस ने आरोपी सांसद को ब्लैक लिस्ट कर दिया है। गायकवाड़ एयर इंडिया की ब्लैक लिस्ट में शामिल होने वाले पहले व्यक्ति हैं। इस बीच पीडि़त एआई कर्मचारी सुकुमार ने कहा है कि वह डरे हुए नहीं हैं। वह हर रोज लोगों को डील करते हैं और कई बार लोग नाराज भी होते हैं। उनका कहना है कि उन्‍होंने श्‍ािवसेना के सांसद से विमान की सफाई होने तक विमान से उतरने का आग्रह किया था। सूत्रों के अनुसार, चार निजी एयरलाइन कंपनियों ने इस मामले में एयर इंडिया का साथ देते हुए अपनी विमान सेवाओं में शिवसेना सासंद की एट्री प्रतिबंधित कर दी है। इन चार कंपनियों में जेट एयरवेज, इंडिगो, स्पाइसजेट और गोएयर शामिल हैं। शिवसेना सांसद पर आरोप है कि उन्होंने एयर इंडिया के कर्मचारी को बिना किसी वजह के चप्पल से मारा था। हालांकि एफआईए के निदेशक उज्जवल डे ने कहा, ‘हमने किसी एमपी को बैन नहीं किया है और हमारे पास किसी को बैन करने की पावर नहीं है। एयर इंडिया एफआई का हिस्सा नहीं है।’ आज एयर इंडिया के कर्मचारी पर हमला करने के मुद्दे पर सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने माफी मांगने से इंकार कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि पहले पीड़ित माफी मांगे। उसके बाद वो देखेंगें कि उन्हे क्या करना है। लोकसभा सभापति सुमित्रा महाजन ने भी आरोपी सांसद रवींद्र गायकवाड़ की हरकत पर कहा है  कि किसी को भी इस तरह का व्यवहार नहीं करना चाहिए। मामला संसद के बाहर घटित होने पर सुमित्रा महाजन ने कहा कि मामले के बारे जानकारी इकट्ठा की जाएंगी और शिकायत पर कार्रवाही भी की जाएंगी। इस बीच इंडिगो ने विमान में ख़राब बर्ताव करने वाले यात्रियों  को ब्लैक लिस्ट करने की योजना का स्वागत किया है। इंडिगो के प्रसिडेंट और डायरेक्टर आदित्य घोष ने कहा है कि वो ऐसी किसी भी कदम का स्वागत करते हैं। इस घटना के बाद एयर इंडिया एक ‘नो-फ्लाई लिस्ट’ भी बनाने की तैयारी में है। इस लिस्ट में ऐसे यात्रियों को रखा जाएगा, जिनके उड़ान के दौरान दुर्व्यवहार का पुराना रिकॉर्ड रहा है। वहीं एक अन्य अधिकारी ने कहा कि वीवीआईपी होने के नाते, शिवसेना के सांसद रवींद्र गायकवाड़ को इस सूची में पहले व्यक्ति के रूप में शामिल किया जाना चाहिए। अपनी फेसबुक पोस्ट में एयर इंडिया के चैयरमेन अश्वनी लोहनी ने लिखा है, ‘कल एक सासंद ने एयर इंडिया के एक कर्मचारी से दिल्ली में इसलिए मारपीट की क्योंकि विमान में एक्जक्यूटिव क्लास की सुविधा नहीं थी। एयरलाइंस ने स्थानीय पुलिस स्टेशन में इस मामले में 2 एफआईआर दर्ज की हैं। जिसमें एक मारपीट को लेकर है दूसरी 40 मिनट तक विमान पर जबरन कब्जा करने और विमान को रोके जाने को लेकर है। पिछले साल इसी तरह की एक घटना तिरूपति में हुई थी, जिसे गंभीरता से लिया गया था। हम किसी को भी इस बात की अनुमति नहीं देंगे की वह ड्यूटी पर रहने के दौरान एयर इंडिया के किसी कर्मचारी से मारपीट करे। हम अपनी तरफ से हरसंभव कोशिश करेंगे तांकि न्याय मिल सके।’ वहीं, इस घटना पर नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने कहा कि मारपीट को कभी भी जायज नहीं ठहराया जा सकता है और उसकी हमेशा निंदा की जाएगी। यह कभी नहीं होना चाहिए था। एयरलाइन कर्मी पर हमला करने का कोई मतलब नहीं है। वहीं एयर इंडिया केबिन क्रू एसोसिएशन ने इस मामले में शिवसेना सासंद से रविंद्र गायकवाड़ से माफी की मांग की है। एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय लाजर ने लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन को एक पत्र लिखते हुए कहा है: ‘एक चुने हुए प्रतिनिधि से यह यह अपेक्षा की जाती है कि वह अपने स्टेट्स को ध्यान में रखते हुए उचित व्यवहार करे। यह चौंकाने वाली घटना है कि सासंद ने न केवल हमारे 60 वर्षीय अधिकारी अपने चप्पल से पीटा बल्कि उसके बाद मीडिया के सामने अपनी हरकत का गुणगान भी किया। यदि यह महाशय सांसद की जगह एक आम आदमी होते तो इनके खिलाफ न केवल आपराधिक मामला दर्ज होता बल्कि विश्व के अन्य देशों की तरह इनका नाम ‘नो फ्लाइ लिस्ट’ में होता।’

Share This Post

Post Comment