जाटों के कूच पर पुलिस मुस्तैद, दिल्ली बॉर्डर पर लंबा जाम

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः आरक्षण की मांग कर रहे जाटों ने रविवार को घोषणा की थी कि वे सोमवार को प्रस्तावित अपने कार्यक्रम के तहत दिल्ली कूच नहीं करेंगे। वहीं, जाटों की ओर से अपना दिल्ली मार्च रद्द कर दिए जाने के बाद भी दिल्ली पुलिस सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम अगले आदेश तक कायम रखे हुए है। दिल्ली पुलिस के सुरक्षा इंतजामों का असर राजधानी दिल्ली में सोमवार सुबह दिखाई दिया। नोएडा, गाजियाबाद, फरीदाबाद, गुड़गांव और बहादुरगढ़ से दिल्ली में प्रवेश के रास्तों पर भारी जाम रहा। सोमवार सुबह दफ्तर के लिए निकले लोगों को इससे भारी परेशानी उठानी पड़ी। पुलिस और केंद्रीय बल के जवान गाड़ी की तलाशी कर यह सुनिश्चित कर लेना चाहते थे कि कहीं जाट आंदोलनकारी राजधानी में प्रवेश न कर जाएं। इसी वजह से यह लंबा जाम लगा। दिल्ली के बॉर्डर इलाके में ही नहीं बल्कि आईएसबीटी, कश्मीरी गेट, अक्षरधाम से नोएडा की तरफ आने वाले रास्ते पर भी लंबा जाम रहा। जाटों की ओर से अपना आंदोलन टालने के बाद दिल्ली मेट्रो ने रविवार को घोषणा की थी कि उसकी सेवाएं कल हमेशा की तरह सामान्य रहेंगी। सोमवार को गुड़गांव, नोएडा और फरीदाबाद के मेट्रो स्टेशन भी हमेशा की तरह खुले रहेंगे। इससे पहले, अधिकारियों ने कहा था कि येलो लाइन के चार स्टेशनों – केंद्रीय सचिवालय, पटेल चौक, उद्योग भवन और लोक कल्याण मार्ग – पर कुछ बंदिशें होंगी, लेकिन देर रात उन्होंने आंशिक बंदिश भी हटा ली। रविवार को दिल्ली मेट्रो रेल निगम ने घोषणा की थी कि आज रात 11:30 बजे के बाद ट्रेनें शहर की सीमाओं से आगे नहीं जाएंगी, जबकि मध्य दिल्ली के 12 स्टेशन आज रात आठ बजे के बाद अगले आदेश तक के लिए बंद रहेंगे। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आरक्षण के मुद्दे पर आज राज्य के प्रदर्शनकारी जाट नेताओं से बात की थी। बाद में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के प्रमुख यशपाल मलिक ने कहा था कि हमारा प्रदर्शन और दिल्ली की तरफ मार्च रद्द कर दिया गया है। जाट समुदाय सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में आरक्षण की मांग कर रहा है। वहीं, विशेष पुलिस आयुक्त (अभियान) और दिल्ली पुलिस के मुख्य प्रवक्ता दीपेंद्र पाठक ने बताया, ‘राष्ट्रीय राजधानी में अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति की ओर से किया जाने वाला प्रदर्शन टाल दिया गया है।’ पाठक ने कहा, ‘लेकिन सीमाओं और नई दिल्ली क्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम अगले आदेश तक कायम रहेंगे। हालात की निगरानी के बाद ही इसमें ढील दी जाएगी।’

Share This Post

Post Comment