विमान में तकनीकी खराबी होने के कारण हुआ हादसा

बाड़मेर, राजस्थान/जय राम माली: बाड़मेर जिले के शिवकर गांव के पास जवानाणियों की ढाणी के पास सुखोई विमान गिरने की जानकारी सामने आई है। विमान में तकनीकी खराबी होने के कारण यह हादसा हुआ। पायलट सुरक्षित विमान से निकल गया। यह विमान जोधपुर एयरफोर्स का बताया जा रहा है। विमान गिरने की सूचना जोधपुर से एयरफोर्स के अधिकारियेां ने जिला कलेक्टर सुधीर कुमार शर्मा को दी। इस पर जिला कलेक्टर मौके पर पहुंचे। उनके साथ कई बाड़मेर डिप्टी ओमप्रकाश उज्ज्वल, एसडीएम चेतनलाल त्रिपाठी, सदर थानाधिकारी जयराम चौधरी सहित कई अधिकारी थे। विमान क्रेस होने से तीन ढाणियां उसकी चपेट में आ गई है। जिसमें तीन जनें जख्मी हो गए। जिन्हें राजकीय अस्पताल बाड़मेर लाया गया है। ढाणियों में आग लग गई। मौके पर दमकल भी पहुंची। भारत के सबसे ज्यादा विमान हादसे अगर कहीं पर होते हैं तो उस सूची में बाड़मेर जिले का नाम कुख्यात जिलो में आता हैं। जहाँ हर साल आधा दर्जन विमान नेस्तनाबूत होते हैं। बाड़मेर में दो सुखोई विमान उड़ान पर थे जिनमें से एक विमान बाड़मेर शहर के निकटवर्ती शिवकर-कुड़ला क्षेत्र के पास हादसे का शिकार हो गया। सुखोई-30 एम.के.आई. इस हादसे में नष्ट हुआ हैं। हादसे की वजह अभी तक आधिकारिक रूप से बताई नही गई हैं। हादसे में इलाके के दो कच्चे मकान क्षतिग्रस्त हो गए। जबकि कई विद्युत पोल टूट गए और कुछ मवेशी हादसे के में जलकर मारे गए हैं। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस अधिकारी मौके पर पहुँचे। जिसके बाद जिला कलेक्टर सुधीर शर्मा और बाद में वायुसेना के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और इलाके को सीज कर दिया। हादसे के बाद इलाके में कई मकान क्षतिग्रस्त हो गए। कच्चे मकानों में आग लग गई और एक बाइक भी जल गई। आधे किलोमीटर में फैले मलबे में आग लग जाने से काफी नुकसान इलाके में रहने वालों को हुआ हैं। वहां के हालात काफी विभत्स थे। वही कई मकान धूं-धूं कर जल रहे थे। चारो तरफ फैला हुआ मलबा और उसमें उठती आग की लपटें, मरे हुए मवेशी, टूटे हुए विद्युत पोल, छितराये हुए विद्युत तार यह दर्शा रही थे कि दुर्घटना कितनी खतरनाक थी। वही विमान के पायलट सुरक्षित बताए जा रहे हैं जिन्हें वायु सेना अस्पताल ले जाया गया है। वायुसेना के टोही हेलीकॉप्टर ने लगातार कई घंटे तक आसमान में दुर्घटना स्थल का हवाई निरीक्षण किया।

Share This Post

Post Comment