महिला बैंक हुआ दिवालिया

भीलवाड़ा, राजस्थान/प्रकाश चन्द्र सोनी: महिला अर्बन को- ओपरेटीव बैंक में आज के बाद किसी भी खाताधारक को कोई भुगतान नहीं होगा। बैंक का संचित कोष समाप्त हो चुका है तथा बैंक प्रबंधन ने रिज़र्व बैंक को इस बारे में सूचित कर दिया है कि  बैंक दिवालिया हो चुका है।  बैंक पर अभी सत्तर करोड़ से अधिक की देनदारियाँ है और उसके पास किसी का चेक सिकारने का पैसा नहीं है।  बैंक आज के बाद किसी का चेक कलियरिंग में केश नहीं करेगा।  बैंक का अधिकांश स्टाफ़ भाग गया है वही प्रबंधन के लोग स्तीफे देकर ग़ायब हो गए है। बैंक के सी ईओ शर्मा ने भी बैंक से मुँह मोड़ लिया है। बैंक के शेयर होल्डर अब राम भरोसे हो गए है वही पचास करोड़ से अधिक की एफडी लेकर अपनी परिपक्वता तारीख़ का इंतजार कर रहे लोगों के पास रोने के अलावा कुछ नहीं बचा है। बैंक के संचालक मंडल के सदस्य और अध्यक्ष पहले ही मुँह मोड़ के जा चुके है इनमे से निवर्तमान अध्यक्ष कीर्ति बोरदिया भी अदालत से ज़मानत लेने के प्रयास में है।

Share This Post

Post Comment