चुनाव के बाद बसपा किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी: मायावती

कानपुर नगर, उत्तर प्रदेश/नगर संवाददाताः यूपी पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा प्रमुख मायावती ने बीजेपी सोशल मीडिया पर दुष्प्रचार फैलाने का आरोप लगाया। मायावती ने कहा कि यूपी में हार रही बीजेपी यह दुष्प्रचार फैला रही है कि बसपा उसके साथ मिलकर सरकार बनाने जा रही है। लेकिन बसपा चुनाव के बाद भी किसी पार्टी से गठबंधन नहीं करेगी। मायावती ने कहा, “वैसे तो यूपी चुनाव बसपा ही जीतने जा रही है, लेकिन सरकार बने या न बने, हम भाजपा को न सर्मथन देंगे और न ही समर्थन लेंगे। हम विपक्ष में बैठेंगे।” कानपुर के शिवराजपुर में जनसभा को संबोधित करते हुए मायावती ने कहा कि पहले चरण में बसपा को झमाझम वोट मिले। पहले चरण में बसपा बहुत सीटें जीतने वाली है, दूसरे चरण में भी बसपा को झमाझम वोट मिलेगा। उन्होंने कहा, “मैं आपको हवा-हवाई बातें नहीं बता रही हूं, मैं आपको जमीनी हकीकत बता रही हूं। बीजेपी को तो बहुत कम सीटें मिलने वाली हैं। हार के भय से बीजेपी की नींद उड़ गई है।”  मायावती ने कहा कि पहले चरण के चुनाव के अगले दिन अमित शाह ने लखनऊ में कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए प्रेस कान्फ्रेंस की, जो एक नाटक था। बीजेपी ने कह दिया कि उन्हें बहुत सीटें मिलने वाली हैं, लेकिन असलियत में उनके चेहरे पर हवाइयां उड़ी हुई थीं। जिसने भी टीवी पर यह देखा होगा, उसे महसूस हो गया होगा। उन्होंने यह सब नाटक इसलिए किया, ताकि अगले चरणों में भी कम वोट न पड़ जाए। मायावती ने कहा, “वैसे तो 101 प्रतिशत बसपा की जीत पक्की है। लेकिन अगर फिर भी कुछ कमी रह गई तो बसपा विपक्ष में बैठेगी, भाजपा से नहीं मिलेगी।” मायावती ने कहा, “मैं केंद्र की वर्तमान सरकार के दौरान रोहित वेमुला कांड को भुला नहीं सकती, मुझे दलितों का उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं, मैं दलितों का सर नीचे नहीं होने दूंगी। मायावती ने कहा कि बीजेपी ने मुझे सीबीआई के दबाव में लेने की कोशिश की। यही नहीं 2003 में मुझे बीजेपी ने मुलायम को मुख्यमंत्री बना देने की हुड़की दी थी। इस पर मैंने इस्तीफा दे दिया था। ऐसी बीजेपी से बसपा का कभी गठबंधन नहीं होगा। ये दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है।” मायावती ने कहा, “सपा से भी बसपा के गठबंधन का सवाल नहीं उठता। मुलायम सिंह यादव ने जो मेरे उपर जानलेवा हमले कराए थे, वह मैं कभी भूल नहीं सकती।”

Share This Post

Post Comment