खुदरा महंगाई दर घटकर 3.17 फीसदी हुई

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः सालाना आधार पर जनवरी में खुदरा महंगाई दर घटकर 3.17 फीसदी हो गई है, जोकि पिछले साल जनवरी में 5.69 फीसदी थी। जबकि दिसंबर में यह 3.41 फीसदी थी। केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा सोमवार को जारी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आंकड़ों के मुताबिक, खुदरा महंगाई में कमी का मुख्य कारण वार्षिक खाद्य मुद्रास्फीति में कमी आना है, जो जनवरी में घटकर 0.53 फीसदी हो गई, जबकि दिसंबर में यह 1.37 फीसदी थी। सीपीआई के आंकड़ों से पता चला है कि जनवरी में ग्रामीण भारत में खुदरा महंगाई की दर 3.36 फीसदी और शहरी केंद्रों में 2.90 फीसदी रही है। वहीं, खाद्य मुद्रास्फीति ग्रामीण इलाकों में 1.07 फीसदी और शहरी इलाकों में नकारात्मक 0.31 फीसदी रही। आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि सब्जियों के दाम सालाना आधार पर गिरावट के साथ नकारात्मक 15.62 फीसदी पर ही, जबकि दालों की कीमत गिरकर नकारात्मक 6.62 फीसदी रही। इस दौरान दूध और दूध आधारित खाद्य पदार्थो की कीमतों में 4.23 फीसदी की वृद्धि हुई। वहीं, प्रोटीन आधारित अन्य खाद्य पदार्थ जैसे मांस और मछली की कीमतें 2.98 फीसदी बढ़ी। इसके अलावा अंडे की कीमतों में 2.64 फीसदी और मसालों की कीमतों में 5.04 फीसदी की वृद्धि हुई। खाद्य तेलों और वसा की कीमतों में 3.12 फीसदी की वृद्धि हुई, जबकि चीनी और मिठाई की कीमतों में सालाना आधार पर मामूली 18.69 फीसदी वृद्धि रही। समीक्षाधीन अवधि में अनाज की कीमतें मामूली घटकर 5.23 फीसदी रही, जबकि फलों के दाम बढ़कर 5.81 फीसदी रहे। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अब अगली मौद्रिक समीक्षा में प्रमुख दरों में गिरावट से बनी अनुकूल स्थितियों को देखते हुए ब्याज दरों में कटौती कर सकती है। राज्यों में खुदरा महंगाई सबसे कम छत्तीसगढ़ में 0.1 फीसदी, उसके बाद ओडिशा में 1.8 फीसदी और आंध्र प्रदेश में 1.9 फीसदी रही। वहीं, दूसरी तरफ यह सबसे ज्यादा जम्मू एवं कश्मीर में सात फीसदी, दिल्ली में 6.3 फीसदी और हिमाचल प्रदेश में 5.9 फीसदी रही। सरकार ने मुद्रास्फीति का लक्ष्य अगले पांच सालों के लिए चार फीसदी (दो फीसदी कम/ज्यादा) रखा है।

Share This Post

Post Comment