श्री एसडी फड़नीस को पुरस्कार देकर किया सम्मानित

कोल्हापुर, महाराष्ट्र/संगप्पाः मशहूर कार्टूनिस्‍ट श्री एसडी फड़नीस कोल्हापूर ” रंगबहार जीवन गौरव पुरस्कार ” शिल्पकार संजीव संकपाळ ” चंद्राश्री पुरस्कार ” देकर किया सम्मान।  देश-दुनिया के जानेमाने वरिष्ट कार्टूनिस्ट श्री एसडी फड़नीस कलाकार के मूल बहुरंगी कार्टून इन प्रदर्शनियों में प्रदर्शित किये गये हैं। ‘लाफ़िंग गैलरी’ हास्य के साथ एक किंवदंती बन गयी है और आगंतुकों ने इसे बहुत पसन्द किया है।‘लाफ़िंग गैलरी’भारत में पुणे, मुंबई, नयी दिल्ली, बंगलौर, हैदराबाद और विदेशों में न्यूयॉर्क तथा लंदन आदि में प्रदर्शित की गयी है। 2001 इण्डियन इंस्टीट्यूट ऑफ़ कार्टूनिस्ट्स, बंगलौर द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड। 2006 फ्रैंकफर्ट विश्व पुस्तक मेले में प्रदर्शनी ‘भारत से कार्टून’ में आमंत्रित भागीदार। 2011 टीवी चैनल आईबीएन लोकमत ‘ग्रेट भैंट’ श्रृंखला में साक्षात्कार (चित्रों के साथ) 2011 ‘हंस’ प्रकाशन द्वारा पहला हंस पुरस्कार। 2011 ‘जीवन गौरव पुरस्कार’ इंटरनेशनल लॉजेविटी सेण्टर, भारत द्वारा। 2012 एसडी फड़नीस द्वारा लिखित पुस्तक ‘रेशतान’ के लिए ‘महाराष्ट्र साहित्य परिषद पुरस्कार’। कोल्हापुर रंगबहार संस्थान की ओर से रंगबहार जीवन गौरव पुरस्कार दिया। चित्रकार और मूर्तिकार श्री संजीव संकपाळ एक आविष्कारक कलाकार होने का उद्देश्य और कला के क्षेत्र में कुछ सभ्यता लाने के लिए दुनिया भर के सभी कला विलय करने के रूप में अलग-अलग क्षेत्रों की कला जानते हैं और यह भी भारतीय कला के प्रसार के लिए दुनिया भर में कला के माध्यम से विश्व शांति की स्थापना के लिए समर्थन करतें हैं। बड़े पैमाने पर भारत भर में और साथ ही दुबई में 2012 में प्रदर्शित किया गया है “राज्य कला प्रदर्शनी महाराष्ट्र”, 2010 में बेस्ट पोर्ट्रेट सहित कई पुरस्कार के प्राप्त किया हैं। 1996 में कला पुष्पा सांगली से “जगह परिदृश्य प्रतियोगिता पर” – 1997 और उत्कृष्ट योगदान के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय एकता में प्रदर्शन “भारत की दोस्ती फोरम, दिल्ली” द्वारा अप्रैल 2008 में के लिए स्वर्ण पदक मिला हैं। शिल्पकार संजीव संकपाळ ज्येष्ठ चित्रकार श्‍यामकांत जाधव प्रतिष्ठान का “चंद्राश्री पुरस्कार” प्रदान किया।
कार्यक्रम  के मुख्य अतिथि संसद के सदस्य श्री छत्रपती संभाजीराजे, कोल्हापूर मेडिकल असोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. प्रवीण हेंद्रे के द्वारा पुरस्कार दिया गया। रंगबहार के संस्थापक श्‍यामकांत जाधव, व्ही. बी. पाटील, रंगबहार के अध्यक्ष प्राचार्य अजय दळवी, रोटरी क्‍लब ऑफ कोल्हापूर स्पेक्‍ट्रम के पवन जामदार, सदस्य विजय टिपुगडे, सागर बगाडे, विश्‍वजीत जाधव, सर्जेराव निगवेकर, अमृत पाटील, धनंजय जाधव, रियाज शेख, उज्वल दिवाण, इंद्रजीत नागेशकर, अशोक पालकर, अतुल डाके, किशोर पुरेकर, सुरेश मिरजकर आदि का योगदान रहा।

Share This Post

Post Comment