एमडीएच वाले 94 साल के ‘दादाजी’ ने कमाए 21 करोड़ रुपए

एमडीएच वाले 94 साल के ‘दादाजी’ ने कमाए 21 करोड़ रुपए

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः एमडीएच के हर विज्ञापन में नज़र आने वाले ‘दादाजी’ धरमपाल गुलाटी को हर कोई जानता है। विज्ञापन में वो हमेशा सिर पर पगड़ी पहने दिखते हैं। 94 साल के धरमपाल गुलाटी ने पिछले वित्तीय वर्ष में 21 करोड़ रुपए कमाई की है। गुलाटी की ये कमाई जोकि गोदरेज कंज्यूमर के आदि गोदरेज और विवेक गंभीर, हिंदुस्तान यूनिलिवर के संजीव मेहता और आईटीसी के वाई सी देवेश्वर की कमाई से भी ज्यादा है। एमडीएच ने इस साल कुल 213 करोड़ रुपए का लाभ कमाया है और इस कंपनी की 80 प्रतिशत हिस्सेदारी गुलाटी के पास है। गुलाटी ने 60 साल पहले एमडीएच जॉइन किया था। वह कहते हैं, मेरे काम करने के पीछे यह प्रेरणा रहती है कि उपभोक्ताओं को कम से कम दाम में अच्छी गुणवत्ता का उत्पाद उपलब्ध कराया जाए। मैं अपनी क्षमता के मुताबिक अपनी सैलरी का 90 फीसदी हिस्सा चैरिटी में देता हूं। गुलाटी की सफलता को देखकर ये अंदाज़ा लगाना मुश्किल है कि वे केवल पांचवी पास हैं। उन्होंने बहुत मेहनत से अपना कारोबार चलाया है।  1919 में पाकिस्तान के सियालकोट में एक छोटी सी दुकान खोलने वाले चुन्नी लाल ने कभी नहीं सोचा होगा कि उनका बेटा इस छोटी सी दुकान को 1500 करोड़ रुपए के साम्राज्य में तब्दील कर देगा। बता दें कि फिलहाल एमडीएच के 60 से ज्यादा उत्पाद है। इनमें देगी मिर्च, चाट मसाला और चना मसाला सबसे ज्यादा बिकने वाले उत्पाद हैं। हर महीने इनके करोड़ों पैकेट्स की बिक्री हो जाती है। इसके अलावा गुलाटी के करीब 20 स्कूल और एक हॉस्पिटल भी हैं।

Share This Post

Post Comment