अन्‍ना हजारे की याचिका- ‘चीनी सहकारी फैक्‍ट्रियों की हो सीबीआई जांच’

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः कार्यकर्ता अन्ना हजारे बुधवार को ‘चीनी सहकारी फैक्ट्रियों पर 25000 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप लगाते हुए मामले में सीबीआई जांच’ की दरख्वास्त लेकर बांबे हाई कोर्ट पहुंचे। हजारे ने सीबीआई जांच की दरख्वास्त करते हुए दो सिविल जनहित याचिका और एक आपराधिक याचिका दर्ज करायी है। जस्टिस अभय ओका की अध्यक्षता वाली बेंच की ओर से आपराधिक जनहित याचिका पर 6 जनवरी को सुनवाई की जाएगी। याचिका में कहा गया है कि यह धोखाधड़ी कर्ज के बोझ तले दबे चीनी सहकारी फैक्ट्रियों द्वारा किया गया और उसके बाद कंपनियों को सस्ती कीमतों पर बेच दिया गया। इसके कारण सरकार को 25,000 करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा। याचिका के जरिए इस घोटाले में शामिल एनसीपी अध्यक्ष पूर्व केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार और उनके भांजे अजीत पवार समेत अन्य नेताओं की जांच के लिए स्पेशल इंवेस्टिगेटिंग टीम से मांग की गयी है। याचिका में आगे भ्रष्टाचार के आरोपों व सरकार व कोऑपरेटिव फंड के दुरुपयोग जिसमें लीज और चीनी फैक्ट्रियों की बिक्री जिसके कारण 25,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ, मामले की जांच की मांग की गयी है। याचिकाकर्ता ने कहा है कि इस याचिका में दिए गए आंकड़े आरटीआई से एकत्रित किए गए हैं।

 

Share This Post

Post Comment