दूध पीकर गुलाबी नगरी में लगभग 4 लाख लोग नए साल का मनाएंगे जश्न

जयपुर, राजस्थान/नगर संवाददाताः साल का आखिरी दिन और नए साल की शुरूआत के लम्हे. कई लोग आज नए साल का जश्न होटल्स रेस्ट्रां और पब में जाम छलकाकर पार्टीज के साथ करेंगे, लेकिन इन सब से अलग अब राजधानी में एक पहल परम्परा का रूप ले चुकी है। यहां लाखों लोग अब गर्मागर्म दूध के साथ भी नए साल का स्वागत करेंगे। लोगों को नशा छोड़ने के लिए प्रेरित करने के मकसद से करीब बारह साल पहले शुरू की गई यह मुहिम प्रदेश के कई शहरों में शुरू हो चली है। दारु नहीं दूध, यहीं है नए साल की शुरुआत का असली जश्न। यहीं मानना है राजधानी के युवाओं का भी, क्योंकि जयपुर में बारह साल पहले शुरू की गई एक अभिनव पहल अब बड़ा रूप ले चुकी है। एक ओर जहां नए साल के स्वागत में कई कदम दारू के नशे में लड़खड़ाते नजर आते हैं। वहीं कई लोग अपने नए साल का स्वागत दूध की चुस्कियों से सेहत की ओर कदम बढ़ाकर भी करते हैं। साल 2004 में इण्डियन अस्थमा केयर सोसायटी और राजस्थान छात्र युवा संस्था ने लोगों को 31 दिसम्बर के दिन राजस्थान विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर मुफ्त गर्मागर्म दूध पिलाने का शुरुआत की थी। लोगों को नशा छोड़कर तंदुरुस्ती के लिए प्रेरित करने के मकसद से शुरू की गई। यह मुहीम अब एक परम्परा का रूप ले चुकी है। 12 साल पहले जब यह मुहिम शुरू की गई थी तब पांच सौ लीटर दूध भी लोगों को मान-मनुहार कर के पिलाया गया था, लेकिन धीरे-धीरे जागरुकता बढ़ती गई और अब विश्वविद्यालय के गेट पर ही 25000 से ज्यादा लोग दूध पीकर नए साल का स्वागत करते हैं। खासतौर से युवाओं में नशे को छोड़कर दूध के प्रति आकर्षण दिल को सुकून देने वाला होता है। इस मुहिम में राजस्थान को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन भी शामिल है। आरसीडीएफ द्वारा हर साल आयोजन के लिए मुफ्त दूध उपलब्ध करवाया जाता है। इस साल आरसीडीएफ साढ़े सात हजार लीटर दूध आयोजन के लिए उपलब्ध करवाएगा और उम्मीद की जा रही है कि आयोजन में करीब तीस हजार लोग जुटेंगे। बड़ी संख्या में आम के साथ ही खास लोग भी इस आयोजन में दूध पीकर नए साल का स्वागत करते हैं। इस पहल से प्रेरित होकर अब प्रदेश में जगह-जगह इस तरह के आयोजन शुरू हो गए हैं। गुलाबी नगर में ही करीब 50 से 60 जगह पर इस तरह के आयोजन होने लगे हैं। करीब 30 संस्थाओं ने आरसीडीएफ को आयोजन के लिए मुफ्त दूध उपलब्ध करवाने का आग्रह किया है। एक अनुमान के मुताबिक शनिवार राजधानी जयपुर में ही अलग-अलग स्थानों पर करीब 4 लाख लोग दूध पीकर नए साल का जश्न मनाएंगे।

Share This Post

Post Comment