किसानों की शांति वार्ता- विद्युत अधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री तक को दिया ज्ञापन, करेंगे आंदोलन

किसानों की शांति वार्ता- विद्युत अधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री तक को दिया ज्ञापन, करेंगे आंदोलन

नागौर, राजस्थान/भूराराम जांगिड़ः मेड़ता रोड में आयोजित किसान छात्रावास में किसान सभा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरूआत लक्ष्मी पूजन के बाद पत्रकारों को सम्मानित के साथ की गई। जिसके बाद भाजपा मंडल अध्यक्ष विक्रम जाजड़ा ने आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि किसानों को अपना हक मिलेगा, सरकार से मांग करेंगे कि अन्नदाता के अधिकारों का हनन ना हो, जाजड़ा ने अधिकारियो को खरी खोटी सुनाई कहा कि अधिकारी पैसो के बगैर बात भी नही करते। जाजड़ा ने कहा कि हर अधिकारी ने अपने अपने आदमी चुन रखे है जिससे भोले भाले किसानों को उनके माध्यम से काला बाजार चलाते है। पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष महेंद्र डांगा ने सभा में कहा कि अधिकारी किसानों की बिजली को उद्योगपति लोगो को बेचते है जिससे डिस्कॉम अपना घाटा बताकर किसानों पर कार्यवाही करते है, डांगा ने अधिकारियो को स्पष्ट कहा कि यह चोरी और सीना चोरी बंद करे। डांगा ने अधिकारियो से सवाल पे सवाल किए जिससे अधिकारियों को लिखित में मांगो का निस्तारण करने के लिए पत्र दिया। जिसमें किसानों के विभिन्न प्रकार के मुद्दों पर किसानो ने चर्चा की और विधुत विभाग के अधिकारियो से लिखित में मांगो को पूर्ण करने का पत्र लिया। किसानों ने विद्युत विभाग के अधिकारियो को बताया की बढ़ी हुई विद्युत दरो में कटौती हो। किसानों को दी जाने वाली विद्युत के लोड को कम किया जाए। अघोषित विद्युत कटौती बंद हो। नए घरेलू मीटरों की गुणवत्ता की जांच हो। कई मुद्दों पर एक्सईन को अवगत करवा कर किसानों ने 15 दिन का अल्टीमेटम दिया। किसानों ने बताया की विद्युत विभाग के भ्रष्ट अधिकारी मेड़ता विद्युत विभाग के एईएन रामजीवन जाखड़ व जेईएन तरुण खत्री को निलंबित करने की मांग की। इस मौके पर मेड़ता रोड सरपंच धर्मेन्द्र लटियाल समाजसेवी रामनिवास लटियाल, पूर्व मंडल अध्यक्ष केसाराम खुड़ खुड़िया सुगनाराम जाजड़ा पुखराज जाजड़ा ओलादन सरपंच रामकिशन बटेर, खेडूली सरपंच अमराराम विश्नोई, राजू जाजड़ा, मोटाराम कापड़ी , जगन्नाथ जाजड़ा, रामपाल मेघवाल सहित कई हजारों की संख्या में जनप्रतिनिधि व किसान की मौजूदगी के साथ सुबह से शाम तक चली।

Share This Post

Post Comment