टी.जी.-2 कर्मचारियों की मुख्य मांगे

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश/जय प्रकाशः विद्युत तकनीकी कमचारी एकता संघ उत्तर प्रदेश द्वारा अपनी मांगों को लेकर दिनांक 28-12-2016 को शक्ति भवन पर शांति पूर्वक एक दिवसीय धरना देने का मुख्य उद्देश्य तकनीशियन ग्रेड-2 कर्मचारियों की समस्याओं को प्रबंधन द्वारा लगातार अनदेखा किया जाना है। आपा सभी को अवगत कराना है कि उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड़ तथा उत्तर प्रदेश पावर ट्रासंमिशन कारपोरेशन लिमिटेड़ में तकनीशियन ग्रेड़-2 के कर्मचारियों की वेतन विसंगतियां पिछले कई वर्षो से चली आ रही हैं, इस संवर्ग के साथ प्रमोशन में 10 साल की सेवा की अनिवार्यता के साथ लिखित परीक्षा कराये जाने का आदेश भी पिछले साल लागू कर दिया गया है। यांत्रिक संवर्ग के टी. जी.-2 कर्मचारी मुख्यतः फील्ड के कर्मचारी  है जो मुख्यतः फील्ड में ही काम करते है। ऐसे में फील्ड का कार्य और पढ़ाई करना कहीं न कहीं कर्मचारियों के मानसिक तनाव का कारण भी बन सकता है। प्र्रबंधन को हमेशा टी. जी.-2 की इन सभी मुख्य समस्याओं से विभिन्न संगठनों द्वारा समय-समय पर और संघ द्वारा भी को अवगत कराकर दूर करने का अनुरोध किया गया है। परन्तु पावर कारपोरेशन प्रबंधन द्वारा इस संबंध में कर्मचारी संगठनों को बार-बार आश्वासन ही दिया जा रहा है। लेकिन अभी हाल ही में अवर अभियन्ता संवर्ण की मांगो को पूरा करते हुए प्रारम्भिक ग्रेड वेतन रूपये 4200 से बढ़ाकर ग्रेड वेतन रूपये 4600 करते हुए अन्य लाभों को भी दिया गया है। जिससे टी. जी.-2 कर्मचारी और अवर अभियन्ता के वेतन में बहुत बड़ा अन्तर हो गया है। आपको अवगत कराना है ऐसे परिवर्तन से जहां 19 साल की सेवा के बाद टी. जी.-2 का तृतीय समयबद्ध वेतन 4800 था। अब यह अवर अभियन्ता का सलेक्शन वेतन का होगा अर्थात टी. जी.-2 का तृतीय समयबद्ध वेतन बराबर अवर अभियन्ता का सलेक्शन वेतन इतने बड़े अन्तर से टी. जी.-2 तृतीय समयबद्ध वेतन बराबर अवर अभियन्ता का सलेक्शन वेतन इतने बड़े अन्तर से टी. जी.-2 कर्मचारियों में काफी रोश व्याप्त हो गया है। इसके साथ ही अवर अभियन्ता का प्रमोशन सहायक अभियन्ता के पद पर वरिष्ठता के आधार पर किया गया है। एक और जहां विभाग में सभी पदों पर प्रमोशन का आधार वरिष्ठता है ऐसे में टी. जी.-2 से अवर अभियन्ता के पद पर प्रमोशन में वरिष्ठता को हटाकर लिखित परीक्षा कर दिया जाना अनुचित है। प्रमोशन में लिखित परीक्षा की प्रक्रिया टी. जी.-2 संवर्ग के अलावा विभाग के किसी अन्य संवर्ग में नहीं है। टी. जी.-2 से अवर अभियन्ता संवर्ग के बीच प्रमोशन में सिर्फ एक पायदान का अन्तर है और प्रबन्धन द्वारा टी.जी.-2 कर्मचारियों के वेतन और प्रमोशन एक बड़ा अन्तर करना टी.जी.-2 कर्मचारियों के साथ अन्याय करना है। पुनः आपको अवगत कराना है कि तकनीशियन ग्रेड़-2 के कर्मचारी मुख्यतः फील्ड के कर्मचारी है और विभाग द्वारा इन कर्मचारियों से फील्ड में लगभग समस्त कार्य कराया जाता है परन्तु वेतन विसंगतियों और प्रमोशन की प्रक्रियाओं में जटिलता लाकर इस संवर्ग के लोगों के साथ कठारा धात किया जा रहा है। जिसके विरोध में संघ दिनांक 28-12-2016 को शक्ति भवन पर एक दिवसीय शान्ति पूर्वक धरना देने हेतु बाध्य हुआ है। टी.जी.-2 कर्मचारियों की मुख्य मांगे यह है- टी.जी.-2 का अगला प्रमोशन अवर अभियन्ता के पद पर होने के कारण टी.जी.-2 का प्रारंभिक वेतन ग्रेड़ 2600 के स्थाना पर अवर अभियन्ता के ठीक नीचे का वेतन ग्रेड 4200 दिया जाना न्याय संगत है। इस प्रकार समयबद्ध वेतन के अन्तर को ठीक किया जा सकता है।, टी.जी.-2 की वेतन विसंगतियों को दूर करते हुए प्रथम समयबद्ध वेतन अवर अभियन्ता का द्वितीय समयबद्ध वेतन।

Share This Post

Post Comment