पीएम नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए कहा कि अगर वे नहीं बोलते तो आ जाता भूकंप

वाराणसी, उत्तर प्रदेश/नगर संवाददाताः वाराणसी पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर चुटकी लेते हुए कहा कि अगर वे नहीं बोलते तो बड़ा भूकंप आ जाता। राहुल गांधी के लिए मोदी ने कहा कि, “वे एक युवा नेता हैं, अभी भाषण देना सीख रहे हैं। जब से उन्होंने बोलना सीखा है, मेरी खुशी का ठिकाना नहीं है। 2009 में पता ही नहीं चलता था कि इस पैकेट के अंदर क्या है? अब पता चल रहा है कि क्या है? न बोलते तो बड़ा भूकंप आ जाता, और देश को कितना बड़ा भूकंप झेलना पड़ता कि देश दस साल तक उबर ही न पाता। लेकिन अच्छा हुआ बोलना शुरू कर दिया, तो पता चल रहा है कि भूकंप की संभावना बची ही नहीं।” बीएचयू में महामना मदन मोहन मालवीय कैंसर रिसर्च इंस्टिट्यूट का शिलान्यास करने के बाद अपने संबोधन में पीएम ने कहा नोटबंदी का विरोध कर रहे कुछ लोग बेईमानों के साथ खड़े हुए। मोदी ने कहा, “मैंने कभी सोचा नहीं था, देश के कुछ राजनेता और राजनीतिक दल बेईमानों के साथ खड़े हो जाएंगे।” प्रधानमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के लिए कहा कि उन्होंने कहा कि जिस देश में 50 प्रतिशत लोग गरीब हों, वहां ये टेक्नोलॉजी वगैरह कैसे हो सकती है। मोदी ने कहा, “अब मुझे बताओ ये वो अपना रिपोर्ट कार्ड दे रहे हैं या मेरा दे रहे हैं। ये 50 प्रतिशत गरीबी की विरासत किसकी झेल रहा हूं मैं।” मोदी ने कहा पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम साहब कहते हैं “हमारे देश में 50 प्रतिशत गांव में अभी भी बिजली नहीं तो कैशलेस कैसे करोगे?” इसके जवाब में मोदी ने कहा, “2014 में आप कहते थे हमने इतना काम किया है, गांव-गांव में बिजली पहुंचाई। अब कहते हो 50 प्रतिशत गांवों में बिजली नहीं है। ये किसका रिपोर्ट कार्ड है?” जिस देश में 60 प्रतिशत लोग अनपढ़ हों, वहां मोदी आॅनलाइन बैंकिंग की बात कैसे कर सकते है। मोदी ने कहा क्या मैंने किसी को अनपढ़ कर दिया। देश की सेना के जवान मौत को मुट्ठी में लेकर पाकिस्तान को जाते हैं और जिंदा लौटकर आते हैं। कुछ लोगों को इस पर भी परेशानी हो गई।

Share This Post

Post Comment