नोटबंदी के बाद पुराने नोट खपाने जमकर हुई सोने की खरीदी, खप गए 250 करोड़

रायपुर, छत्तीसगढ़/मयूर जैनः नोटबंदी लागू होने के बाद राजधानी रायपुर में 250 करोड़ रुपए का सोना खप गया। ब्लैकमनी पकड़े जाने के डर से लोगों ने जमकर खरीदी की। इसके चलते महीनेभर में होने वाली कुल बिक्री की कसर सप्ताहभर में हो गई थी। कारोबारी भी अफरा-तफरी का माहौल देखकर सोने और प्लेटिनियम की कीमतों को तीन गुना बढ़ा दिया था। इसके बाद भी बाजार में ब्लैकमनी से खरीदारी होती रही। नोटों के प्रचलन से बाहर होने का हवाला देकर स्टॉक नहीं होने के बाद भी बुकिंग कराई गई। सप्ताहभर में ही सराफा बाजार में करोड़ों रुपए का धन बरस गया। इसकी भनक मिलने के बाद आयकर विभाग की टीम ने बाजार में सक्रिय हुई। आयकर विभाग ने बाजार में ब्लैकमनी खपाने वालों पर शिकंजा कसने के लिए महीनेभर में डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों के ठिकानों पर दबिश दी। छानबीन के दौरान उनके ठिकानों से मिले दस्तावेजों और वीडियो फुटेज को जांच के लिए जब्त किया है। इसकी रिपोर्ट भोपाल स्थित मुख्यालय को भेजी गई है।आयकर विभाग नोटबंदी के बाद हुई खरीदी का जानकारी तैयार करने में जुटा हुआ है। उनकी खरीदी-बिक्री का आकड़ा जुटाया जा रहा है। बताया जाता है कि इसके लिए सेलटैक्स विभाग से विक्रय का ब्यौरा मांगा था। सराफा कारोबारियों की 1200 पंजीकृत दुकानों में नोटबंदी के पहले रोजाना 4-5 करोड़ रुपए की बिक्री होती थी। लेकिन, अचानक 1000 और 500 रुपए का नोट बंद होने की घोषणा होते ही सप्ताहभर में ही 250 करोड़ रुपए का सोना बिक गया। खरीदारों ने 55 से 60 हजार रुपए प्रति तोला में जमकर खरीदारी कर डाली। सूचना मिलने पर आयकर विभाग ने दबिश दी। सेंट्रल कस्टम विभाग ने रायपुर के 15 मुख्य सराफा कारोबारियों को नोटिस थमाया था।

Share This Post

Post Comment