प्रदूषण को लेकर एनजीटी की केंद्र और दिल्ली सरकार को फटकार

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः दिल्ली के उपर धुंध छाए रहने को लेकर राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने शुक्रवार को केंद्र और दिल्ली सरकार को जमकर फटकार लगाई है। एनजीटी ने कहा कि वे एक दूसरे पर दोषारोपण करना बंद करें। एनजीटी के अध्यक्ष स्वतंत्र कुमार ने कहा कि दिल्ली के लोगों के प्रति यह अन्याय है। हर चीज में प्रशासन अपना हाथ खड़े कर देता है। हमें कुछ करना है। आप यह नहीं कह सकते कि वक्त इसे करेगा। पीठ ने कहा कि लोगों के स्वास्थ्य के संबंध में कोई परवाह नहीं कर रहा। वायु प्रदूषण पर कोई परेशान नहीं है। प्रशासन एक दूसरे पर दोष मढ़ रहा है। यह बेहद दुखद है। पीठ ने दिल्ली सरकार से राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर 10 साल से ज्यादा पुरानी डीजल गाड़ियों के परिचालन पर भी रोक लगाने को कहा है। सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार के वकील ने पीठ से कहा कि पड़ोसी राज्यों हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में फसल अवशेष जलाने के कारण प्रदूषण का उच्च स्तर है। पीठ ने पलट कर कहा कि केवल फसल अवशेष जलाने के कारण यह नहीं है। दिल्ली में फसल अवशेष नहीं जलाया गया। आपके मुताबिक हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में फसल अवशेष जलाया गया लेकिन आजकल तो हवा भी नहीं बह रही इसलिए इन राज्यों से धुआं भी नहीं आ सकता। एनजीटी ने पंजाब, हरियाणा और राजस्थान के पर्यावरण एवं शहरी विकास सचिवों को नोटिस जारी किये और उन्हें आठ नवंबर को सुनवाई के दौरान उपस्थित रहने का निर्देश दिया।

Share This Post

Post Comment