आरटीओ की लापरवाही से आम लोगों को जबरदस्ती के चक्कर लगाने पड़े

कानपुर, युपी/नगर संवाददाताः आरटीओ की लापरवाही से आम लोगों को जबरदस्ती के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। दरअसल, आरटीओ से बने डीएल इतने खराब बने हैं कि डीएल में फोटो ही क्लियर नहीं हुई है। ऐसे में इन डीएल को लेकर चल रहे लोगों को ट्रैफिक पुलिस वाले रोककर उनका चालान काट रहे हैं और लाइसेंस को फर्जी बता रहे हैं। बाद में अपनी बात को सिद्ध करने के लिए लोगों को आरटीओ व ट्रैफिक लाइन के कई- कई चक्कर लगाने पड रहे हैं. आरटीओ में डीएल बनवाने के लिए आ रहे अप्लीकेंट्स की फोटो खींची जाती है। दरअसल, एक कंप्यूटर का कैमरा इतना खराब है कि उससे खींची गई फोटो निगेटिव की तरह आती है। फोटो से व्यक्ति की पहचान करना मुश्किल हो जाता है। वहीं आरटीओ के अधिकारी व कर्मचारी भी इस ओर ध्यान नहीं देते हैं और वैसे ही फोटो लगाकर डीएल को भेज देते हैं। वहीं इस बारे में एजेंसी वालों का कहना है कि कैमरा सही है, लेकिन ऐसी जगह पर फोटो खींची जाती है, जिससे फोटो को फोकस नहीं मिल पाता है और फोटो खराब जाती है। कई ऐसे लोग हैं, जो डीएल सही होने के बावजूद आरटीओ के चक्कर लगा रहे हैं, क्योंकि उनका चालान कट चुका है। फजलगंज निवासी मो। इश्तियाक ने बताया कि परेड चौराहे से फजलगंज जाते समय उनका चालान कटा था। लाइसेंस 4 माह पहले ही बनाया था लेकिन फोटो खराब होने के चलते पुलिस वाले लाइसेंस फर्जी मान रहे थे और चालान काट दिया। ऐसे एक नहीं कई मामले सामने आ चुके हैं।

Share This Post

Post Comment