बेमौसम बारिश से खरीफ फसलों को हुए नुकसान का सर्वेबीमा कम्पनी अगले तीन दिन में करेगी पूरा

नागौर, राजस्थान/मुकेश प्रजापतः जिले में बेमौसम बारिश से खरीफ फसलों को हुए नुकसान का सर्वे बीमा कम्पनी अगले तीन दिन में पूरा करेगी। इसका आश्वासन यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कम्पनी के रीजनल मैनेजर डी. एस. भाटी ने कलक्टर राजन विशाल को कलक्टर कार्यालय में हुई बैठक में दिया। गौरतलब है कि अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में जिले में हुई बैमोसम बारिश से किसानों की खेतों में खड़ी व कटी पड़ी फसलें खराब हो गईं, लेकिन बीमा कम्पनी ने इसको गंभीरता से नहीं लिया और खराब फसलों का सर्वे नहीं किया गया। इसको लेकर राजस्थान पत्रिका ने ‘कम्पनी का नहीं फसल का हो बीमा अभियान चलाकर सिलसिलेवार समाचार प्रकाशित कर बीमा कम्पनी की उदासीनता एवं सरकार द्वारा जारी की गई अधिसूचना की पोल खोली। बारिश के दस दिन बाद भी बीमा कम्पनी द्वारा सर्वे नहीं करने पर कलक्टर विशाल ने भी इसको गंभीरता से लेते हुए कृषि आयुक्त से बात कर वस्तुस्थिति की जानकारी दी। खरीफ फसल खराबे का बीमा क्लेम करने के लिए मंगलवार को कलक्टर ने बीमा कम्पनी के रीजनल मैनेजर को नागौर बुलाकर इस सम्बन्ध में वार्ता की। कलक्टर ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ प्रभावित किसानों तक पहुंचाने के लिए फसल खराबे का समय पर सर्वे करना जरूरी था, लेकिन अब काफी देर हो चुकी है। यदि अब सर्वे किया गया तो खेतों में कुछ नहीं मिलेगा। एेसे में फसल नुकसान का सही आंकलन करने के लिए सम्बन्धित तहसीलदारों से बारिश एवं नुकसान की रिपोर्ट लें। कलक्टर ने कहा कि यह कार्य जितना जल्दी हो सके, पूरा किया जाए। कलक्टर के निर्देश पर बीमा कम्पनी के रीजनल मैनेजर भाटी ने कहा कि वे बुधवार को ही 2-2 सर्वेक्षणकर्ताओं के 10 दल बनाकर जिले की सभी तहसीलों में सर्वे का कार्य तीन दिन में पूरा करवा लेंगे। उन्होंने इसके लिए राजस्व विभाग व कृषि विभाग के कर्मचारियों का सहयोग मांगा, जिस पर कलक्टर ने एडीएम चंदगीराम झाझडि़या को निर्देश दिए कि वे सभी तहसीलदारों को इस सम्बन्ध में निर्देश जारी करें कि वे बीमा कम्पनी के दलों का सहयोग कर सर्वे पूरा करवाएं। कलक्टर ने कहा कि सर्वे में सहयोग नहीं करने वाले कर्मिकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि खरीफ फसल की अधिसूचना में बीमा कम्पनी के टोल फ्री नम्बर गलत जारी कर दिए गए थे। पत्रिका ने इस मुद्दे को भी प्रमुखता से उठाया। मंगलवार को कलक्टर ने कम्पनी अधिकारियों को सही नम्बर जारी करने के लिए कहा। जिस पर आरएम ने कहा कि फसल खराबे की सूचना देने के लिए शीघ्र ही एक राज्य स्तरीय टोल फ्री नम्बर जारी किया जाएगा।

Share This Post

Post Comment