सरकार की अनदेखी के चलते किसान मूंग की फसल औने-पौने दाम में बेचने को मजबूर

नागौर, राजस्थान/मुकेश प्रजापतः सरकार की अनदेखी के चलते जिले के किसान मूंग की फसल औने-पौने दाम में बेचने को मजबूर है। मूंग के 45 से 48 सौ प्रति क्विंटल मिल रहे है। जबकि उसका सर्मथन मूल्य 5,225 रूपये प्रति क्विंटल है। ऐसे में किसानों को प्रति क्विंटल करीब चार सौ रूपये प्रति क्विंटल की चपत लग रही है। किसानों को लग रही चपत के चलते वह न केवल चिंतित हैं, बल्कि सरकार की बेरूखी से नाराज भी है। मूंग की आवक से पहले इसकी कीमतें पांच हजार रूपये प्रति क्विंटल को छू गई थी। लेकिन जैसे ही मूंग की आवक शुरू हुई इसकी कीमतें गिरनी शुरू हो गई। कृषि विभाग ने एक सितंबर से मूंग की सरकारी खरीद शुरू करने की घोषणा की थी। लेकिन अभी तक जिले में मूंग खरीद के लिए केंद्र तक घोषित नहीं किया गया है। किसान अपनी फसल को औने-पौने दाम में बेचने को मजबूर है। मूंग की फसल को मजबूरी में बेचना पड रहा है। त्योहार के चलते रूपयों की जरूरत हर किसान को महसूस होती है। इस मजबूरी का व्यापारी और सरकार फायदा उठा रही है। समर्थन मूल्य से नीचे मूंग की बिक्री हो रही है। इसके बावजूद सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है।

Share This Post

Post Comment