राजदेव हत्याकांड में मो. कैफ को सीबीआई ने लिया रिमांड पर, पूछताछ शुरू

सीवान, बिहार/शिव शंकर लालः सिवान के पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में सीबीआइ के जांच शिकंजा संदिग्धों पर कसता दिख रहा है। साथ ही साजिश की परतों को परत दर परत खंगालते हुए पहले लड्डन मियां को 3 दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ कर चुकी जांच एजेंसी ने अब मो.कैफ को 3 दिन के रिमांड पर लेकर मुजफ्फरपुर में पूछताछ कर रही है। बताते चलें कि राजदेव रंजन हत्याकांड में सु्प्रीम कोर्ट ने सीबीआई को 17 अक्टूबर से पहले स्टेट्स रिपोर्ट सबमिट करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही कोर्ट ने पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन और कैबिनेट मंत्री तेज प्रताप सिंह को नोटिस जारी किया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में जांच एजेंसी सीबीआई और राज्य पुलिस को कड़ी फटकार लगाई थी। कोर्ट के आदेश को ध्यान में रखते हुए सीबीआइ ने पत्रकार हत्याकांड के मुख्य संदिग्ध बंटी उर्फ़ मोहम्मद कैफ को ग्रिल कर मामले की तह तक पहुचना चाहती है। साथ ही तय अवधि में स्टेट्स रिपोर्ट सबमिट करने से पहले सीबीआई की टीम हत्यकांड से जुड़े पुख्ता सुबूत और साज़िश का विवरण पता लगाने की कोशिश में जुटी है। मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआइ की ओर से डीएसपी सह केस आइओ सुनील सिंह रावत ने शुक्रवार को ही कांड की प्राथमिकी और अन्य संबंधित दस्तावेज सीबीआइ कोर्ट के प्रभारी न्यायाधीश जावे आलम को सौंप दिया था।कोर्ट में सीबीआइ की ओर से मोहम्मद कैफ उर्फ बंटी को पूछताछ और जांच के लिये रिमांड पर लेने की अपील की गयी। जिसे कोर्ट ने सहर्ष स्वीकार कर लिया था। अदालत द्वारा सीबीआइ को यह निर्देश भी दिया गया है कि मेडिकल जांच के बाद सीबीआइ कैफ को जेल से ले जायेगी और पूछताछ खत्म होने के बाद मेडिकल जांच के बाद ही उसे दोबारा जेल में भेजेगी। इसी प्रक्रिया को अपनाते हुए शनिवार को सीबीआई की टीम ने कैफ का मेडिकल कराया और उसे अपने साथ मुजफ्फरपुर ले आई है। जहाँ उससे पूछताछ का सिलसिला शुरू हो चूका है। उलेखनीय है कि 13 मई को सिवान में क़त्ल कर दिए गए पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड की जांच सीबीआई कर रही है।सीबीआइ की टीम ने इससे पहले हत्याकांड स्थल पर मॉक ड्रिल भी किया था। ताकि घटना क्रम को पूरी बारीकी से समझा जा सके और उन पहलुओं को वारदात की जांच में संदिग्धों से पूछताछ के दौरान इनके जवाब ढूंढे जा सके। साथ ही सीबीआइ उन तमाम संदिग्धों को अपने निशाने पर ले रही है जिनका रिश्ता किसी ना किसी तरीके से इस हत्याकांड से जुड़ा हुआ है। साथ ही सीबीआई की टीम के 2 सदस्य लगातार घटना के अन्य पहलुओं और तथ्यों को शहर की फिज़ा में टटोलते हुए उसका हत्यकांड से लिंक तलाशने में लगे है। वही मो. कैफ ने राजदेव रंजन हत्याकांड में पॉलीग्राफ टेस्ट कराने की मंशा जाहिर की थी।इससे पहले पुलिस ने मुख्य आरोपित लड्डन मियां, शूटर रोहित, रिशु, सोनू, विजय व राजेश का नार्को टेस्ट कराने की अनुमति मांगी थी, लेकिन आरोपितों का कोर्ट में इंकार करने के बाद पुलिस की याचिका खारिज कर दी गई।

Share This Post

Post Comment