सर्जिकल स्ट्राइक की तस्वीरें कैद, सेना ने सौपा पीएम कार्यालय को टेप

नई दिल्ली/शिवशंकर लालः हिंदुस्तान की सियासत में अरविंद केजरीवाल, सीताराम येचुरी,दिग्विजय सिंह और संजय निरुपम जैसे तमाम लोग भारतीय सेना के एलिट कमांडो पारा द्वारा किये गए “सर्जिकल स्ट्राइक” पर सवाल उठा रहे है। लेकिन दुनिया के तमाम मुल्क भारतीय सेना द्वारा किये गए इस स्ट्राइक को न केवल सराहना की जा रही है। भारतीय सेना द्वारा पाकिस्तान में घुसकर किये गए सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से मुल्क में कुछ लोगों की बोलती बन्द है। वही मुल्क की सियासत में सर्जिकल स्ट्राइक के सुबूत के नाम पर विपक्ष द्वारा बेहद निंम्न स्तर की बयानबाजी जारी है। हद तो ये की सेना की इस जांबाजी भरी कार्रवाही पर सरकार विरोधी सरकार से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहे है।सरकारी सूत्रों से जानकारी मिली है कि इससे बड़ा सबूत क्या होगा कि सर्जिकल स्ट्राइक के तुंरत बाद अमेरिका की एनएसए सुसैन राइस ने भारत के एनएसए अजित डोभाल को फोन किया था। इंडियन आर्मी की एलिट कमांडो फ़ोर्स जब पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक कर रही थी तो अमेरिकी सेटेलाइट में सर्जिकल स्ट्राइक की तस्वीरें भी कैद हुई है। जैसे ही इन तस्वीरों की जानकारी अमेरिकी नेशनल डिफेन्स एडवाइजर को पेंटागन द्वारा दी गया। ऑपेरशन के दौरान ही अमेरिकी एनएसए सुसैन राइस ने अजित डोभाल को फोन किया और इस बाबत जानकारी लेते हुए बातचीत की। इस सर्जिकल स्ट्राइक की सफलता के बाद भी ये तय किया गया कि देश की सुरक्षा के मद्देनजर सेना सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी नहीं करेगी। दरअसल इसके पीछे सेना की सोच है कि दुश्मन देशों को वीडियो के जरिए भारत के ऑपरेशन को अंजाम देने की तकनीक का पता चले।साथ ही सेना के अधिकारियों ने बताया कि सेना पीओके में आंतक का अड्डा खत्म करने के लिए आगे भी सर्जिकल स्ट्राइक की तैयारी कर रही है।अगर सीमा पर फायरिंग की आड़ में घुस पैठ की कोशिश होती है तो फिर से हम पीओके मे घुस कर कार्रवाई करेगें। लेकिन पिछले दो दिनों के अंदर मुल्क की सियासत में सेना की।इस बहादुरी पर प्रश्न चिन्ह लगाने की टुच्ची राजनीति विपक्ष द्वारा की जा रही है। इसको देखते हुए सेना ने अब ऑपरेशन से जुड़े विडियो को प्रधानमंत्री कार्यालय को टेप मुहैया करा दिया है साथ ही इसे जारी करने या न करने का अधिकार पीएम मोदी पर छोड़ दिया है।

Share This Post

Post Comment