शहीद नितिन यादव का उनके गांव नंगलाबरी में मंगलवार को किया अंतिम संस्कार

इटावा, युपी/नगर संवाददाताः सर्जिकल स्ट्राइक के बाद बारामूला के सैनिक कैंप पर हुए आतंकी हमले में शहीद नितिन यादव का उनके गांव नंगलाबरी में मंगलवार को अंतिम संस्कार किया गया। शव को देख पिता ने बेटे शहादत पर गर्व जताया तो वहीं नितिन के भाई ने कहा कि वे भी सीमा पर जाएंगे। शहीद नितिन यादव का शव जब इटावा के उसके नंगलाबरी गांव पहुंचा तो हर शख्स रो पड़ा। मां के आंसू थम नहीं रहे थे। पिता के लिए अपने छोटे बेटे नितिन का मुंह देखना मुश्किल था लेकिन गांव के लोगों का सीना चैड़ा था क्योंकि नितिन ने अपनी शहादत देकर उरी हमले को दोहराने से बचाया था। शहीद नितिन के अंतिम दर्शन करने भारी संख्या में लोग मौजूद थे। 24 साल का नितिन यादव अपने दोनों भाइयों में छोटा था और दो दिन पहले ही उसने अपनी मां से बात कर दिवाली मे आने की बात कही थी, लेकिन नितिन तो नहीं आया लेकिन उसका पार्थिव शरीर आ गया। बीएसएफ ने परिवार को बताया कि नितिन की बहादुरी की वजह से बारामूला कैंप मे आतंकी बड़ी घटना करने में कामयाब नहीं हो पाए, एक बड़ा आतंकी हमला टल गया।

Share This Post

Post Comment