मुठभेड़ में एक जवान शहीद और तीन जवान हुए घायल

नई दिल्ली/नगर संवाददाताः रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पाकिस्तान की ओर से रविवार रात सीमा पर संघर्ष विराम उल्लंघन किए जाने और बारामूला में सीमा सुरक्षा बल के शिविर पर आतंकवादियों के हमले के बाद तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ बैठक में अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियत्रंण रेखा पर सुरक्षा की स्थिति की सोमवार को समीक्षा की। रक्षा मंत्री ने सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग, वायुसेना प्रमुख अरुप राहा और नौसेना प्रमुख सुनील लांबा के साथ नियमित बैठक में सुरक्षा की स्थिति की समीक्षा की। जनरल सुहाग ने पर्रिकर को जम्मू-कश्मीर, सीमावर्ती क्षेत्रों और विशेष रूप से नियत्रंण रेखा की स्थिति के साथ-साथ बारामूला में हुए आतंकवादी हमले के बारे में पूरी जानकारी दी। पिछले सप्ताह भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर सीमित कार्रवाई की थी जिसमें बड़ी संख्या में आतंकवादी मारे गये थे। उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और सेना के शिविरों पर हमला करने वाले आतंकवादियों के खिलाफ सोमवार की सुबह होते ही शुरू किया गया व्यापक तलाशी अभियान समाप्त हो गया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हमला करने वाले आतंकवादी अंधेरे के कारण भाग गए। उन्होंने बताया कि अभियान समाप्त हो गया है। इलाके में अतिरिक्त सुरक्षाबल और पुलिसकर्मी तैनात हैं। सूत्रों ने बताया कि सेना, बीएसएफ और अर्धसैन्य बलों के अलावा पुलिस ने भी आज सुबह होते ही आतंकवादियों के खिलाफ व्यापक तलाशी अभियान शुरू किया। आतंकवादियों ने रविवार की देर रात करीब साढ़े दस बजे जांबाजपुरा में बीएसएफ और राष्ट्रीय राइफल्स के मुख्य प्रवेश द्वारों पर हथगोले फेंके। जब सुरक्षाबल आतंकवादियों के खिलाफ लड़ाई में व्यस्त थे तब आतंकवादियों के एक अन्य समूह ने शिविरों में घुसने का प्रयास किया लेकिन सुरक्षाबलों ने उनकी इस कोशिश को विफल कर दिया। इसके बाद सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच एक घंटे से ज्यादा समय तक भारी गोलीबारी हुई। मुठभेड़ में बीएसएफ का एक जवान शहीद हो गया और एक अन्य जवान घायल हो गया जबकि राष्ट्रीय राइफल्स के भी दो जवान घायल हो गए। हमले के तुरंत बाद अतिरिक्त अर्धसैन्य बल और पुलिसकर्मी घटनास्थल पर पहुंचे और पूरे इलाके को चारों तरफ से घेर लिया। आतंकवादियों के खिलाफ तलाशी अभियान रात करीब डेढ़ बजे रोक दिया गया और आज सुबह होते ही फिर शुरू कर दिया। श्रीनगर के पुलिस नियंतण्रकक्ष के अनुसार राजमार्ग पर यातायात जारी है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादियों के सात लॉन्च पैड पर भारतीय सेना की सीमित कार्रवाई (सर्जिकल स्ट्राइक) के चार दिन बाद यह हमला किया गया है।

Share This Post

Post Comment