पुराने शहर में प्राचीन मंदिर और भवनों का हैरीटेज लुक दोबारा से होगा जीवित

डूंगरपुर, राजस्थान/नगर संवाददाताः डूंगरपुर पुराने शहर में जर्जर और किन्ही कारणों से अपना हैरिटेज लुक खो चुके प्राचीन मंदिर व भवनों का हैरीटेज लुक दोबारा से जीवित होगा. इसके लिए जिला कलेक्टर सुरेन्द्र सोलंकी ने कवायद शुरू कर दी है. इसी कवायद के तहत डूंगरपुर जिला कलेक्टर सुरेन्द्र सोलंकी ने नगर परिषद की टीम के साथ रविवार सुबह पुराने शहर का भ्रमण किया. कलेक्टर सोलंकी ने तहसील चौराहे से पैदल चलकर पुराने शहर का भ्रमण करते हुए प्राचीन मंदिर, निजी और राजकीय भवनों का अवलोकन करते हुए उनका सर्वें किया. सर्वे की शुरूआत में जिला कलेक्टर ने गेपसागर झील की पाल पर बनी छतरियां, श्रीनाथ मंदिर, मुरली मनोहर जी का मंदिर सहित पुराने शहर में 3 दर्जन के करीब प्राचीन मंदिर और भवनों की स्थितियों को देखा और वहां आस-पास में रह रहे लोगों से इन मंदिरों और भवनों के हैरिटेज लुक के संबंध में चर्चा की. इधर, इस अवसर जिला कलेक्टर सुरेंद्र सोलंकी ने हैरिटेज लुक संबंधी योजना के बारे में बताया कि पुराने शहर में दर्जनों से ऐसे मंदिर और भवन हैं जो कि देखरेख व जागरूकता के अभाव में अपना हैरिटेज लुक खो चुके हैं. ऐसे में इस हैरिटेज लुक को पुन: जीवित करने की शुरूआत में पुराने शहर में प्राचीन भवनों को आईडेंटीफाई किया जा रहा है. इसके बाद चयनित भवनों को आमजन, नगरपरिषद के सहयोग से उन्हें हैरीटेज लुक दिया जाएगा. ताकि आने वाले समय में डूंगरपुर शहर हैरिटेज शहर के रूप में अपनी पहचान बना सके.

Share This Post

Post Comment