पति ने पत्नी और साली का दोस्तों संग सामूहिक बलात्कार कर उतरा मौत के घाट

मुंगेर, बिहार/शिव शंकर लालः वर्त्तमान दौर में रिश्तों की ख़त्म होती मर्यादा और इंसान की हैवानियत का दायरा हर आयाम को पार करता दिख रहा है। खून के रिश्ते हो या विश्वास की कच्ची डोर सब के परखच्चे उड़ रहे है। इसी कड़ी में योग और बन्दूको खातिर पहचान रखने वाले मुंगेर जिले के धरहरा थाना क्षेत्र में पति पत्नी के रिश्ते का त्रासद हैवानियत और दरिंदगी भरा अंजाम का खुलासा होने से एक बार पुनः इंसान के जानवर होने की ताकीद हुई है। धरहरा थाना क्षेत्र में एक पति ने अपनी धर्म पत्नी जिसके सुरक्षा और मान सम्मान की रक्षा खातिर अग्नि के 7 फेरे लिए थे।पत्नी के साथ ही अपनी 17 वर्षीय साली के साथ हैवानियत और दरिंदगी की सारी हदे तोड़ते हुए वो कर डाला जो किसी सभ्य समाज के माथे पर वो कलंकित सच बन गया है जो शायद ही कभी न मीट पाये। पत्नी पति के रिश्ते की नाज़ुक डोर तोड़ते हुए वहशी और सनकी गौरव नामक इस युवक ने अपने 6 दोस्तों संग कई बार बलात्कार किया और जब दरिंदगी की हद से ये इंसानी भेड़िये गुज़र गये तो बलात्कार करने के बाद खुद पति ने अपने दोस्तों संग मिल कर पत्नी और साली की गला दबा कर हत्या कर दी और फरार हो गया। लेकिन कहते है न हर गुनाह अपने पीछे अपने गुनाह की लकीरें छोड़ जाता है। ये मामला इसी माह 9 तारीख को पुलिस की जानकारी में आया जब मृतका की माँ ने धरहरा थाना को ये जानकारी दी की उसके अपने दामाद गौरव कुमार,गांव श्री रामपुर थाना अकबरनगर ज़िला भागलपुर का रहने वाला है वो खुद की पत्नी चन्दा देवी और साली विनीता कुमारी को घर से घुमाने के बहाने मुंगेर के जमालपुर बाजार ले गया और फिर उसका अपहरण कर लिया है। घटना की जानकारी मिलते ही मुंगेर पुलिस कप्तान के निर्देश पर धरहरा थाना प्रभारी राकेश कुमार ने एक टीम बना कर गौरव कुमार को खोजना शुरू किया। इसी क्रम में पुलिस गौरव कुमार के घर पहुंची जहां गौरव की माँ को पुलिस ने हिरासत में ले कर जब पुलिसिया अंदाज़ में पूछताछ की तो अभियुक्त गौरव् की मां ने मुंह खोल दिया। तब तक पुलिस के बढ़ते दबिश को देखते हुए अभियुक्त गौरव् कुमार ने मुंगेर न्यायलय में खुद आत्म समर्पण कर दिया।इसके बाद पुलिस ने न्यायालय से गौरव की 3 दिन की रिमांड पर जब पूछताछ किया तो पहले तो गौरव पुलिस को गुमराह करता रहा मगर पुलिस कप्तान और इनकी टीम को अभियुक्त ज़्यादा देर तक गुमराह नहीं कर पाया और मुंह खोला दिया। पुलिस गिरफ्त में आये अपराधी गौरव कुमार ने जो बताया उसको सुन कर शायद पति पत्नी के विश्वस के नाज़ुक सी डोर से बंधे रिश्ते को न केवल कलंकित कर दिया बल्कि एक ही घर की दो बेटियों का क़त्ल कर दिया। घटना के हर पहलु से अवगत कराते हुए पति से हैवान बने गौरव ने अपनी पत्नी को अपने ससुराल धरहरा से पहले जमालपुर घुमाने का प्रोग्राम बनाया और घूमने जाने का लालच अपनी साली विनीता कुमारी को भी दिया। अभागी चन्दा और विनीता को क्या मालूम था की गैरव के मन में शैतान ने जन्म ले लिया है। अपनी सोची समझी साज़िश को हकीकत का जामा पहनाने खातिर गौरव ने पहले तो दोनों को घुमाने के नाम पर बरगला कर जमालपुर में इधर उधर घुमाया फिर बहला फुसला कर भागलपुर के करीब घंट बाबा मंदिर में दर्शन करने का लालच दिया। सब कुछ पहले से तय था बस गौरव को योजना के अनुसार करते जाना था। इसके बाद तीनों गौरव पत्नी चन्दा और साली विनीता एक मोटर साइकिल से भागलपुर की ओर चल पड़े।अब तक सबकुछ योजना के अनुसार चल रहा था। तय योजना के अनुसार गौरव ने पहले से ही अपने 6 मित्रों को बता रखा था कि कैसे और किस तरह घटना को अंजाम देना है। फिर सब ने मिल कर चन्दा और विनीता को अपने कब्ज़े में ले लिया और बांका ज़िला के अंतर्गत आने वाले शम्भूगंज थाना के खजूरी डीह पहाड़ की तलहटी में ले जा कर गौरव और उसके बांकी 6 मित्रों ने बारी बारी दोनों बहन के साथ बलात्कार किया और इंसान की शक्ल में भेड़िया गौरव भी इन मज़लूम औरतों के दर्द चीख का मज़ा ले रहा था।इंसानियत तो मर ही चुकी थी शायद ज़मीर भी मर गया और खुद पति गौरव ने अपने हाथों दोनों बहनों का गला दबा कर मौत की नींद सुला दिया। अब पुलिस ने गौरव से स्वीकारोक्ति बयान के आधार पर खजूरी डीह के पहाड़ के तलहटी से दोनों बहनो की लाश का सड़ा गला अवशेष और कंकाल बरामद कर लिया है। साथ ही फोरेंसिक जांच और डीएनए टेस्ट के लिए भेज दिया है। साथ ही गौरव के गुनाह के साथियों और बलात्कारी मित्रों की भी तलाश पुलिस कर रही है।

Share This Post

Post Comment