हरिद्वार में अपना ही खून बना अपना ही कातिल

हरिद्वार, उत्तराखंड/नगर संवाददाताः धर्म नगरी हरिद्वार में अपना ही खून अपना ही कातिल बन गया. चोरी के पैसों के बारे में पूछने पर छोटा भाई इस कदर आग बबूला हुआ की उसने न केवल अपने ही बड़े भाई और भाभी पर चाकुओं से ताबड़तोड़ वार कर मौत के घाट उतार दिया बल्कि अपनी भतीजी पर भी चाक़ू से वार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया. इस मामले में रानीपुर पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर हत्या में इस्तेमाल चाक़ू बरामद कर लिया है. इस घटना से ग्राम दादुपुर में दहशत का माहौल है. कोतवाली रानीपुर का दादुपुर गाँव रिश्तों के क़त्ल का गवाह बना है. खून से लथपथ पड़े दोनों शव उस भाई भाभी के हैं, जिन्होंने अपने छोटे भाई के बेटे की तरह पाला. शुक्रवार रात घर से 50 हज़ार चोरी हुए पैसों के सम्बन्ध में मृतक शहज़ाद ने अपने छोटे भाई सरताज से पूछा तो उसने गुस्से में आकर अपने भाई और भाभी रुखसाना की चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी. इतना ही नहीं उसने अपनी भतीजी पर भी चाक़ू से वार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया. अपने माँ बाप की हत्या की गवाह बनी रूबी ने अपने माँ बाप का क़त्ल होते अपनी आँखों से देखा. मृतका रुखसाना के पिता का भी कहना है की आरोपी अपने भाई के पास ही रहता था. अब्दुल हाफ़िज़ अब अपने दामाद और बेटी के हत्यारे के लिए फांसी की मांग कर रहे हैं. पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद अब सरताज शर्मसार होने के बजाय उलटा भाई-भाई को ही गुनाहगार बता रहा है. उसका कहना है कि 50 हज़ार की चोरी का इलज़ाम लगाकर उसके भाई-भाभी ने उसे मारने का प्रयास किया, जिसने उसने उनकी हत्या कर दी. सीओ सदर जेपी जुयाल का कहना है कि पैसों की चोरी को लेकर ये हत्याकांड किया गया. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. उसे जेल भेजा जा रहा है. छोटी से बात को लेकर हुए इस दोहरे हत्याकांड ने एक पूरे परिवार को बर्बाद कर दिया है. बच्चों के सर से माँ बाप का साया उठ गया. हालांकि आरोपी अब सलाखों के पीछे पहुँच गया है, लेकिन अब चार मासूम बच्चों की ज़िंदगी ज़रूर बर्बाद हो गया है.

Share This Post

Post Comment