नदी किनारे नाबालिग के साथ किया था गैंगरेप

शहडोल, मध्यप्रदेश/नगर संवाददाताः मध्य प्रदेश के शहडोल में सामूहिक दुष्कर्म के फरार आरोपी को कोर्ट ने 20 साल के सश्रम करावास की सजा सनाई है और 20 हजार रुपए जुर्माना भी लगाया है. शहाडोल जिला कोर्ट के विशेष न्यायाधीश ने सामूहिक दुष्कर्म मामले में यह ऐतिहासिक फैसला सुनाया है. कोर्ट ने पिछले महीने उसके साथी रजनीश को भी इसी मामले में 20 वर्ष के सश्रम कारावास समेत 20 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई थी. दरअसल, 31 दिसंबर 2013 को ब्यौहारी के जगमल देवसर गांव में रहने वाली एक नाबालिग लड़की समधिन नदी के किनारे लकड़ियां बीनने के लिए गई थी. इसी दौरान वहां मौजूद प्रभु उर्फ अरुण (24) और रजनीश उर्फ लल्लू (26) ने उसके साथ गैंगरेप की शर्मनाक हरकत को अंजाम दिया. पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 376(2) सह धारा 376 (अ) के तहत मामला दर्ज किया गया था. इस मामले में करीब डेढ़ साल तक चली सुनवाई के बाद कोर्ट ने यह आरोपियों के खिलाफ यह फैसला सुनाया है.

Share This Post

Post Comment