एमपी में 5 लाख से ज्यादा कर्मचारियों ने फूंका सरकार के खिलाफ बिगुल

भोपाल, मध्यप्रदेश/नगर संवाददाताः मध्यप्रदेश के 5 लाख से ज्यादा कर्मचारियों ने अपनी 35 सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन का बिगुल फूंक दिया है. रविवार को भोपाल में आयोजित मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ के महासम्मेल में आगे की रणनीति तय की गई है. प्रदेशाध्यक्ष ओपी कटियार ने कहा कि सरकार कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी कर रही है. प्रदेश के 50 फीसदी कर्मचारियों को समयमान वेतनमान का लाभ नहीं दिया जा रहा है. कर्मचारियों के लिए सातवें वेतनमान की घोषणा तो कर दी गई हैं, लेकिन अध्यापकों के लिए अभी तक छठवें वेतनमान का विसंगतिरहित गणनापत्रक जारी नहीं किया गया है. कर्मचारी का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग में नर्सिंग स्टाफ एएनएम और महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की रिटायरमेंट की उम्र 65 साल के स्थान पर 60 साल कर दी है. उन्हें जबरन रिटायर किया जा रहा है. संविदाकर्मियों को भी सेवाओं से पृथक किया जा रहा है. सरकार की इन्ही दोषपूर्ण नीतियों के खिलाफ तृतीयवर्ग कर्मचारी संघ 5 अक्टूबर को जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेगा और 21 अक्टूबर को प्रदेशव्यापी आंदोलन किया जाएगा.

Share This Post

Post Comment