बेटे के चाह में 4 दिन की नवजात को दफनाने की कोशिश

बेलरी, कर्नाटका/नगर संवाददाताः बेटे की चाहत में बेटियों की हत्या करने के मामले दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं। कर्नाटक के बलारी जिले से मां-बाप की क्रूरता का मामला सामने आया है।  मां-बाप ने अपनी 4 दिन की नवजात बच्ची को जिंदा ही दफनाने का प्लान बनाया, हालांकि इसमें वह एक ऑटो चालक की वजह से कामयाब नहीं हो पाए हैं। दरअसल 4 दिन की मासूम ने बेटे की चाहत रखने वाले माता-पिता के घर जन्म ले लिया था और इसकी कीमत उसे जिंदा जमीन में दफन होकर चुकानी पड़ रही थी। मां-बाप बेटी के जन्म लेने से काफी परेशान थे, इसलिए उन्होंने उसे किसी तीसरे शख्स के जिंदा दफनाने का फैसला लिया। इसके लिए उन्होंने एक बेरहम शख्स को बुलाया और पैसे देकर लड़की को दे दिया। आरोपी शख्स ने बच्ची को एक बास्केट में डाल लिया और ऑटो ले लिया। इस बीच शख्स से ऑटो चालक रमेश होसा अमरावती से बातचीत शुरु कर दी और बताया कि बच्ची की मौत हो गई है इसलिए इसे दफनाना है। ऑटो चालक को दाल में कुछ काला तब महसूस हुआ जब वह चलते ऑटो से ही मामूस को नाले में फेंकने वाला था, लेकिन ऐसा करने के लिए रमेश ने उसे मना कर दिया। बच्ची के जिंदा होने का शक ड्राइवर को तब हुआ जब बास्केट से उसके रोने की आवाज आई। इसके बाद ऑटो रोक रमेश ने शख्स से सवाल किए और घबराए हुए आरोपी ने सारा सच बोल डाला।  इसके बाद ड्राइवर रमेश ने अपने दोस्तों को पूरी बात बताई और बच्ची को दरिंदे के चंगुल से छुड़ाया। रमेश ने वापस अस्पताल में लड़की को दाखिल कराया और पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। हालांकि, आरोपी शख्स मौके से फरार होने में कामयाब रहा। बच्ची को चाइल्ड प्रोटेक्शन कमिटी को सौंप दिया गया है। बलारी जिले के चाइल्ड प्रोटेक्शन ऑफिसर मोहम्मद सरवार का कहना है कि मासूम के मां-बाप का पता नहीं चल पाया है क्योंकि अस्पताल के पास उनका सही पता नहीं है। बताते चलें कि मासूम को मां ने चार दिन पहले एक प्राइवेट अस्पताल में जन्म दिया था। पुलिस का कहना है कि अस्पताल के सीसीटीवी कैमरे सही से काम नहीं कर रहे हैं, जिसकी वजह से फुटेज अभी तक नहीं मिली है। लेकिन डॉक्टर, नर्स और स्टाफ से पूछताछ की जा रही है।

Share This Post

Post Comment