मायावती ने बाहुबली क्षत्रिय नेता धनंजय सिंह को पार्टी से किया बाहर

जालंधर, पंजाब/संजीव कोहलीः बसपा सुप्रीमो मायावती ने बाहुबली क्षत्रिय नेता धनंजय सिंह को पार्टी से बाहर कर जोर का झटका दिया है। धनंजय सिंह ने बसपा के टिकट पर ही वर्ष 2009 में जौनपुर संसदीय सीट से चुनाव लड़ा था और चुनाव जीत कर पहली बार सांसद बने थे। इलाहाबाद में हुई रैली में मायावती ने धनंजय सिंह के साथ मंच साझा किया था जिससे लगा था कि धनंजय सिंह को बसपा से टिकट मिल जायेगा।बसपा सुप्रीमो मायावती ने बाहुबली क्षत्रिय नेता धनंजय सिंह को पार्टी से बाहर करके राजनीति जगत में तुफान ला दिया है। इलाहाबाद में हुई रैली में बसपा सुप्रीमो मायावती ने धनंजय सिंह के साथ मंच साझा किया था और सपा सरकार पर अपराधियों पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया था जिसके बाद मायावती पर खुद सवाल उठने लगे थे एक तरफ तो मायावती ने बाहुबली नेता के साथ मंच साझा किया था और दूसरी तरफ सपा सरकार पर अपराधियों को शरण देने का आरोप लगा रही थी। धनंजय सिंह के लिए बड़ा झटका है बसपा से बाहर होनाधनंजय सिंह पहली बार बसपा से बाहर नहीं हुए हैं। बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ कर सांसद बने धनंजय सिंह का नाम नौकरानी हत्याकांड में आया था तो मायावती ने खुद धनंजय सिंह को बुला कर पुलिस के हवाले किया था और उसके बाद पार्टी से भी निकाल दिया था। इसके बाद से धनंजय सिंह का बसपा से नाता नहीं था लेकिन इलाहाबाद में हुई मायावती की रैली में धनंजय सिंह को पार्टी में शामिल कर लिया गया था जिसके बाद से ही मायावती पर बाहुबलियों को संरक्षण देने का आरोप लगने लगा था। रारी से विधायक थे धनंजय सिंह बाहुबली क्षत्रिय नेता जौनपुर के रारी से विधायक थे। धनंजय सिंह ने लगातार दो बार इस सीट से चुनाव जीत कर 30 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा था और जब वह सांसद बने तो उन्होंने अपनी सीट से पिता को जीताया है। वर्तमान समय इस सीट का नाम मल्हनी हो गया है। जानिए किसने पार्टी से निकालने की घोषणा की बीएसपी के जोनल कोआर्डिनेटर डा.रामकुमार कुरील ने ही बाहुबली क्षत्रिय नेता को पार्टी से बाहर करने का ऐलान किया है। पार्टी से बाहर होने के बाद धनंजय का दावा मल्हनी सीट से खत्म हो गया है और इस सीट पर विवेक यादव को टिकट देने की चर्चा हैं।

Share This Post

Post Comment