आवाज ए पंजाब पार्टी नहीं प्रेस कांफ्रेंस मे बोले सिद्धू

जालंधर, पंजाब/संजीव कोहलीः दस साल तक लोकतंत्र नहीं डंडा तंत्र चला है इन शब्दों से नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रेस कांफ्रेंस शुरू की और कहा कि इस बार चुनाव कोई पार्टी नहीं बल्कि पंजाब जीतेगा। हमारी लड़ाई किसी पार्टी से नहीं पार्टी चलाने वाले लोगों से है जो परिवारवाद की राजनीति करते हैं। मैं पिछले आठ साल से ऐसी सियासत का विरोध करता रहा हूं। मुझे अमृतसर से निकालने की कोशिश की मगर मैने गुरूघर न छोड़ने की कसम खाई थी और नहीं छोड़ा। जिसकी मैं सबसे ज्यादा इज्जत करता था उसे मेरी जगह खड़ा कर दिया। जब जरूरत पड़ी तब सिद्धू याद आया और जब सरकार बनी तो सिद्धू को मंच के नीचे से ही बाय कर दी। कैनेडा का प्रधानमंंत्री आया तो बाहर खड़ा दिया। एक ही सिक्के के दो पहलू है कैप्टन और बादल जो फ्रैंडली मैच खेलते हैं। नत्था सिंह एंड प्रेम सिंह वन आफ द सेम थिंग। चार बार गुरूनगरी ने मुझे मान दिया इन्हें नहीं छोड़ सकता था। पहली बार सैलीब्रेटी जाता है मगर दूसरी बार काम जीतता है तीसरी बार व्यवहार और चौथी बार किरदार जीतता है। मैने राज्यसभा से इंकार किया मगर मोदी साहिब ने नोमीनेट कर दिया। जो राज्यसभा मुझे पंजाब से दूर कर रही थी उसे मैनै छोड़ा। मुझे बादल की कंपेन के लिए बोला गया इसलिए मैने राज्यसभा छोड़ा। मैने इस्तीफा दिया तो हामीद अंंसारी साहिब हैरान रह गए कि आप किसी दबाव में तो नहीं आये। आप और कांग्रेस ने खुद मुझे संपर्क किया। केजरीवाल को मैने बोला कि मुझे कुछ नहीं चाहिए मगर मनगढ़ंत बाते उड़ाई गई। केजरीवाल ने टवीट किया कि सिद्धू साहिब बिना शर्त आए हैं। मगर उन्होंंने आधा सच बोला पूरा मैं बताता हूं। केजरीवाल से मैने अपना रोल पूछा तो वो तीन बार पूछने पर कहा तो वो बोले आप चुनाव न लड़ो पत्नी को लड़ा दो उन्हें मंत्री बना देंगे। मैने पत्नी को बोला वो तुम्हें मंत्री बना रहे हैं और मुझे कह रहे हैं डैकोरेशन पीस बन जाओ। पत्नी ने कहा जड़ के बिना न पेड़ होता है और न ही फल। मुझे गाना याद आ गया नाम पड़े दर्शन छोटे। केजरीवाल समझते है कि वह अकेले ही इमानदार है।

Share This Post

Post Comment