विपदा भक्त के जीवन को निखारने के लिए आती हैं – साध्वी वैष्णवी भारती

5 (3)
नई दिल्ली/अरविंद कुमार यादव: दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान की ओर से जयपुर में श्रीमदभागवत महापुराण साप्ताहिक कथा ज्ञान यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। जिसके अंतर्गत सर्व श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या साध्वी सुश्री वैष्णवी भारती जी ने माहात्म्य के अंर्तगत बताया भगवान श्रीकृष्ण में जिनकी लगन लगी है उन भावुक भक्तों के हृदय में प्रभु के माधुर्य भाव को अभिव्यक्त करने वाला, उनके दिव्य रस का आस्वादन करवाने वाला यह सर्वोत्त्कृष्ट महापुराण है। जिसमें वर्णित वाक्य ज्ञान, विज्ञान, भक्ति एवं उसके अंगभूत साध्न चतुष्टय को प्रकाशित करने वाला है तथा माया का मर्दन करने में समर्थ है। श्रीमदभागवत भारतीय साहित्य का अपूर्व ग्रंथ है। यह भक्ति रस का ऐसा सागर है जिसमें डूबने वाले को भक्तिरूपी मणि-माणिक्यों की प्राप्ति होती है। भागवत कथा वह परमतत्व है जिसकी विराटता अपरिमित व असीम है। वह परमतत्व इसमें निहित है जिसके आश्रय से ही इस परम पावन भू-धाम का प्रत्येक कण अनुप्राणित और अभिव्यंजित हो रहा है। यह वह अखंड प्रकाश है जो मानव की प्रज्ञा को ज्ञान द्वारा आलोकित कर व्यापक चिंतन के द्वार खोल देता है। यह वह कथा है जो मानव के भीतरी दौब्र्लयता के रूपान्तरण हेतु अविरल मन्दाकिनी के रूप में युगों युगों से प्रवाहित होती आ रही है। उन्होने बताया कि भागवत महापुराण की कथा समाज के प्रत्येक व्यक्ति का प्रतिनिध्त्वि करती है। आज के समाज की हर समस्या का समाधन इसमें ही निहित है। भागवत की कथा आज के परिवेश को ही दर्शाती है। आज संस्कार विहीनता के वातावरण में पल रही युवा पीढी़ की यही दशा है। जिस प्रकार मिठाई से मिठास, इक्षुदण्ड से रस, दुग्ध् से घी निकाल लेने से ये निःसार, तेजहीन हो जाते हैं। वैसे ही मानव के जीवन से संस्कार नहीं तो वह तेजहीन हो जाता है। इन संस्कारों के अभाव में युवा वर्ग पश्चिमी सभ्यता का अंधनुकरण कर रहा है। भारतीय परंपराओं का उपहास करना और उन्नति के नाम पर नैतिकता का परित्याग करना उनके जीवन की उपलब्धि बन गयी है। फल्मी सितारें, माडल आदि को उन्होने जीवन का आदर्श बनाया है। इन में से किसी का परिधन इनको भाता है तो किसी की चाल-ढाल। स्मरण रहे युवाओं द्वारा चुने इन आदर्शों ने व्यक्तिगत कितनी भी प्राप्तियां कर ली हों। पर उनके त्याग, सेवा व परोपकार के कोई बड़े आदर्श स्थापित नहीं किये। उनकी नकल करने से हमारे परिधन, चाल-ढाल में परिवर्तन अवश्य आ सकता है। किंतु बाहरी चमक दमक से बात नहीं बनती। इस से चिंतन बदल सकता है, चरित्रा नहीं। संस्कारों की आवश्यकता है जो विश्व रूपी बगिया को सरस, सुरभिमय बना सकें। क्योंकि जहां संस्कार हैं वहां उच्च, श्रेष्ठ समाज की परिकल्पना साकार होती है। तदुपरांत भागवत के प्रथम स्कंध् का वर्णन किया गया। जिस में वेद्व्यास जी के असंतोष का विवरण आता है। उन्होने सत्राह पुराणों की रचना से संसार को भक्ति मार्ग दिखाया परंतु स्वयं का मन तमस से ग्रसित रहा। नारद जी की प्रेरणा से ज्ञात हुआ कि प्रभु शब्दों का विषय नहीं अपितु दर्शन का विषय है। वृक्ष के सर्वांगीण विकास के लिये मूल का सिंचन आवश्यक है। उसी प्रकार जीवन के विकास हेतु आत्मतत्व का प्राप्त करना परमावश्यक है। यह प्रकरण हमें परमात्मा की प्रत्यक्षानुभूति करने की सीख देता है।

Share This Post

Post Comment