द्वेशतापूर्ण कार्यवाही का मामला दिल्ली पहुंचा

द्वेशतापूर्ण कार्यवाही का मामला दिल्ली पहुंचा

जयपुर, राजस्थान/जनक सिंहः राजमहल पैलेस होटल से सटी जमीन पर हुई कार्यवाही को लेकर अब दिल्ली में भी राजनीति गर्माने के आसार बन गए हैं। तथा भारतवर्ष के राजपूतों में इस कार्यवाही के प्रति सख्त नाराजगी जाहिर की है। तथा यथा स्थिति बनाने के लिए राज्य सरकार को तीन दिन का अल्टीमेटम राज्य के पचास में अधिक राजपूत संघटनों ने दिया है। तथा महारानी का अपमान करने वाले तथा जयपुर विकास प्राधिकरण के कमीश्नर से केंद्रीय नेताओं में सख्त नाराजगी है। लेकिन अभी ये नेता खुल कर सामने नहीं आ रहे है। मुख्य मंत्री गत शनिवार को मुख्यमंत्रियों की बैठक में शामिल नहीं हुई जिससे आलाकमान भी सख्त नाराज है। क्योंकि मुख्यमंत्री भूटान में एक साहित्य मेले में भाग लेने गई थी। जो कि मुख्य मंत्रियों की बैठक से ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं था। केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद पहली बार पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई थी। यह बैठक भी काफी समय पहले तय हो गई थी। जिसको वसुंधरा राजे ने नजर अंदाज कर भुटान के मेले को महत्व दिया। वह महल की रणनीति के तहत ही भूटान का कार्यक्रम बनाया। उनके जाने के बाद ही राजमहल पैलेस मामले को अंजाम दिया गया। वही राजपूत संघठनों ने राष्ट्रीय स्तर पर आंदोलन की तैयारी कर रही है। हनुमान सिंह खांगटा ने सभा को संबोधित किया।

Share This Post

Post Comment