उत्तर प्रदेश में महिलाओं के साथ अपराध की सर्वाधिक घटनाएं

फतेहपुर, उत्तर प्रदेश/अनिल कुमारः भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में बीते पांच साल के दौरान महिलाओं के साथ अपराध की घटनाएं लगातार बढ़ी हैं।इलाहाबाद (राज्य ब्यूरो)। भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में बीते पांच साल के दौरान महिलाओं के साथ अपराध की घटनाएं लगातार बढ़ी हैं। 2010 में जहां ऐसे 2.13 मामले सामने आए थे, वहीं 2014 में यह 3.37 लाख तक पहुंच गया। ऐसे अपराधों में देश स्तर पर 58 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई जबकि प्रदेश में पांच वर्षों में 61 फीसद की वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के आंकड़े दिए गए हैं जिसके अनुसार 2014 में देश में महिलाओं के साथ हुए कुल अपराधों का 11.4 प्रतिशत उत्तर प्रदेश में रहा, जो अन्य राज्यों की तुलना में सबसे अधिक है। उत्तर प्रदेश के राजनीतिक समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।आडिट रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ऐसा तब है जबकि महिलाओं के साथ हुए कुल अपराधों का महज 0.16 प्रतिशत ही दर्ज किया जाता है। 2010 में महिलाओं के साथ अपराध के 20951 मामले दर्ज हुए थे, 2014-15 में इनकी संख्या बढ़कर 33694 हो गई। इस अवधि में दुष्कर्म की घटनाएं 1582 से बढ़कर 2945 हो गई। दुष्कर्म, दहेज के लिए हत्या, प्रताडऩा, शील भंग करने के लिए हमला, अपहरण आदि घटनाएं अधिक हुईं। आडिट रिपोर्ट में यह भी खुलासा किया गया कि दुराचार के प्रकरण पिछले एक साल में 43 फीसद बढ़े। इनमें सबसे अधिक 59 फीसद नाबालिग लड़कियां शिकार हुईं। अलीगढ़ (392), मुरादाबाद (377), इलाहाबाद (348), मेरठ (346) और लखनऊ व आगरा (328) में सबसे अधिक घटनाएं हुईं। राज्य में अपहरण की सबसे अधिक घटनाएं हुईं जिनमें 71 प्रतिशत नाबालिग लड़कियां शिकार थीं।

Share This Post

Post Comment