तरनतारन में इतिहास दोहराया गया, बस देश बदले

जालंधर, पंजाब/संजीव कोहलीः कई साल पहले जिस तरह भिखीविंड का सरबजीत अपने परिवार से नाराज होकर घर सेे निकल पाकिस्तानी सीमा में घुसा था उसी तरह पाकिस्तान के लाहौर के रामपुरा गांव का शाम मोहम्मद तरनतारन के पास खालड़ा सीमा से भारत में घुस आया। बीएसएफ ने आज सुबह करीब पौने छह बजे उसे भारतीय सीमा से गिरफ्तार किया। पकड़े गए युवक ने बताया कि उसका अपने घर वालों से किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था जिस कारण वह घर से निकल आयाृ और कब भारतीय सीमा में घुस आया पता ही नहीं चला। इसकी कहानी सरबजीत से मिलती है क्योंकि वह भी घर वालों से नाराज होकर सीमा पार पहुंचा था। मगर वह इतना खुशनसीब नहीं था कि जिंदा भारत लौटे। बीते साल सरबजीत की पाकिस्तानी जेल में हत्या कर दी गई थी। पाक हकूमत ने सरबजीत को सीरीयल बम धमाके में फांसी की सजा सुना रखी थी। मगर शाम मोहम्मद खुशनसीब लग रहा है क्योंकि वक्त और देश बदला हुआ है। बीएसएफ के अधिकारी शाम मोहम्मद के इस बयान को वैरीफाई कर रहे हैं और यदि यह सही निकला तो उसे बिना कानूनी कार्रवाई पाकिस्तान को सौंपने पर विचार हो रहा है।

Share This Post

Post Comment