अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी भी नसीब नहीं

मंडला, मध्यप्रदेश/नगर संवाददाताः मध्य प्रदेश के मंडला जिले में मानवीयता को शर्मसार कर देने का मामला सामने आया है. यहां सड़क हादसे में एक ही परिवार के 10 सदस्यों की मौत के बाद प्रशासन अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियां भी उपलब्ध कराने में नाकाम रहा. मजबूरन हादसे के शिकार लोगों को दफनाकर अंतिम संस्कार की औपचारिकता पूरी की गई. प्रदेश के मंडला जिले से सटे जबलपुर के देवहरा गांव का एक परिवार रक्षाबंधन में शामिल होने पिपरिया जा रहा था. इस दौरान उनकी बोलेरे जीप की बस से टक्कर हो गई, जिसमें 10 लोगों की मौत हो गई. शुक्रवार को पोस्टमार्टम के बाद परिजन सभी काअंतिम संस्कार कर रहे थे. लेकिन, परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने की वजह से वह लकड़ी का इंतजाम करने में नाकाम रहे. यह सब कुछ कुंडम एसडीएम ऋषि पवार, तहसीलदार अजय धुर्वे की मौजूदगी में हुआ. दोनों अफसरों के होने के बावजूद बेबस परिवार को अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियां उपलब्ध नहीं हो सकी. तहसीलदार का कहना है कि यदि जनपद सीईओ कोशिश करते तो अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी उपलब्ध हो जाती. ग्रामीण भी इस स्थिति में नहीं थे कि इस परिवार की कोई मदद की जा सकें. ऐसे में मजबूरन सभी को दफना कर अंतिम संस्कार की रस्म पूरी की गई.

Share This Post

Post Comment