अंबेडकर के मेडिसिन वार्ड में जमीन पर चल रहा इलाज, बढ़ गई है मरीजों की संख्या

रायपुर, छत्तीसगढ़/मयूर जैनः अंबेडकर अस्पताल में इन दिनों मौसमी बीमारियों के कारण मेडिसिन विभाग में जमीन पर बेड लगाकर मरीजों का इलाज किया जा रहा है। वायरल इंफेक्शन के कारण लोग सर्दी, खांसी व बुखार से पीड़ित हो रहे हैं। इसके कारण बेड भी कम पड़ रहा है। इन दिनों अस्पताल के मेडिसिन, गायनी, पीडिया व कैंसर वार्ड में बेड की कमी के कारण मरीजों को काफी परेशानी हो रही है। स्ट्रेचर की कमी के कारण मरीजों को खुद ही ले जाना पड़ रहा है। मौसमी बीमारियों के कारण अंबेडकर अस्पताल में मरीज भर्ती करने के लिए बेड की कमी हो गई है। अस्पताल प्रबंधन किसी तरह मरीजों को भर्ती कर इलाज कर रहा है। सबसे बुरा हाल मेडिसिन वार्ड का है। यहां पुरुष व महिला के दो-दो यानी कुल चार वार्ड है। बेड की संख्या 120 है, लेकिन यहां 200 से ज्यादा मरीजों का इलाज किया जा रहा है। वार्ड आठ से 11 तक बेड की कमी है। वार्ड से लेकर हॉल में व जमीन पर मरीजों का इलाज चल रहा है। गंभीर मरीज आने के बाद कम गंभीर मरीजों को नीचे उतार दिया जाता है। इससे मरीजों व जूनियर डॉक्टरों के बीच विवाद भी हो रहा है। मेडिसिन वार्ड में कम से लेकर ज्यादा गंभीर मरीजों का इलाज होता है। यही कारण है कि हर मौसम में यह वार्ड फुल रहता है। मौसमी बीमारियों का जब समय आता है, तब यहां की समस्या बढ़ जाती है। भास्कर ने गुरुवार को वार्ड का निरीक्षण किया तो पाया कि जिन मरीजों का जमीन पर गद्दा लगाकर इलाज किया जा रहा है, वे खुश नहीं है। वे चाहते हैं कि उन्हें भी बेड मुहैया करवाया जाए। भिलाई से आए रामदयाल गुप्ता को कमजाेरी की शिकायत है। वह पिछले सप्ताहभर से भर्ती है। उसकी शिकायत है कि इन सात दिनों में उन्हें बेड नहीं मिल पाया है।

Share This Post

Post Comment