छत्तीसगढ़ में बिछेगी 884 किमी लंबी रेल लाइन

रायपुर, छत्तीसगढ़/मयूर जैनः छत्तीसगढ़ में 884 किलोमीटर लंबी तीन नई रेल लाइन बिछाने राज्य सरकार ने रेल और कोल मंत्रालय के साथ ज्वाइंट वेंचर कंपनी का गठन किया गया है। इन रेल लाइनों में डोंगरगढ़-खैरागढ़-कवर्धा-मुंगेली-कोटा-कटघोरा-बिलासपुर के 270 किलोमीटर, रायपुर-बलौदाबाजार-झारसुगड़ा के 310 किलोमीटर, अंबिकापुर-बरवाडीह के बीच 182 किलोमीटर और सूरजपुर- परसा – ईस्ट-वेस्ट कॉरीडोर के 122 किलोमीटर लंबाई के रेल कॉरिडोर का निर्माण शामिल हैं। सीएम डॉ. रमन सिंह ने कहा -छत्तीसगढ़ सरकार पहले ही रेल-कोल एवं इस्पात मंत्रालय के साथ साझा उद्यम बनाकर 546 किलोमीटर रेलवे लाइन पर काम कर रही है। इनमें से ईस्ट कॉरीडोर फेज-1, खरसिया से धर्मजयगढ़ के बीच का काम मार्च 2018 तक पूरा हो जाएगा। इसी प्रकार फेज-2 के धर्मजयगढ़-कोरबा के बीच रेलवे लाइन का काम मार्च 2020 तक तथा ईस्ट-वेस्ट कॉरीडोर के तहत गेवरा से पेण्ड्रा रोड के बीच का काम भी मार्च 2019 तक पूरा हो जाएगा। इस संपूर्ण रेलमार्ग की लंबाई 311 किमी है। उन्होंने बताया कि दल्ली राजहरा से रावघाट 95 किमी और रावघाट से जगदलपुर 140 किमी रेलमार्ग का निर्माण भी वर्ष 2020-21 तक पूर्ण हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा है कि यह एमओयू नए रेल मार्ग राज्य के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने विश्वास दिलाया कि नई रेल लाइनों पर रेल मंत्रालय तेजी से कार्य करेगा। उन्होंने छत्तीसगढ़ के 7 रेलवे स्टेशनों के विकास के लिए भी राज्य सरकार के सहयोग से काम करने की बात कही।

Share This Post

Post Comment