नाबालिक दलित से बलात्कार कर बनाया एमएमएस

पटना, बिहार/शिवशंकर लालः राजद सुप्रीमो लालू यादव के गृह जिले गोपालगंज में तीन महीने पूर्व गांव के ही एक दबंग ने दलित नाबालिग के साथ रेप किया था। साथ ही आपत्तिजनक वीडियो भी बना लिया था। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने बलात्कार का मामला भी दर्ज किया पर तीन महीने बीत जाने के बावजूद रेप पीड़िता को इंसाफ नहीं मिल सका है। आरोपी अब भी फरार हैं। इतना ही नहीं, रेप पीड़िता को धमकी दी जा रही है कि केस उठा लो वरना बुरे अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहो। गोपालगंज पुलिस के लापरवाही भरे रवैये से आरोपियों के द्वारा पीड़िता के परिजनों को केस वापस लेने और जान से मारने की लगातार धमकी दी जा रही है। यह मामला गोपालगंज जिले के कुचायकोट के बरवांवृत्त गांव का है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक कुचायकोट के बरवांवृत्त के दलित परिवार की 13 वर्षीय स्कूली छात्रा के साथ गांव के ही मृत्युंजय तिवारी ने दो लोगों सीमा देवी और रमी पटेल की मिलीभगत से रेप किया था। पीड़िता के बयान पर महिला थाना में 17 फरवरी 2016 को पास्को एक्ट के तहत मामला भी दर्ज किया गया। शुरुआती जांच में पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल करा कर रेप की घटना की पुष्टि भी की थी, बावजूद इसके इस घटना के सभी आरोपी तीन माह बीत जाने के बाद भी फरार हैं। बलात्कार का शिकार नाबालिक की मां के मुताबिक सरस्वती पूजा की रात को गांव में आर्केस्ट्रा का आयोजन किया गया था। आरोप है कि इसी दौरान गांव की ही महिला सीमा देवी पीड़िता को शौच के बहाने गांव से बाहर ले गई और गांव के ही दबंग युवक के सामने रेप करने के लिए छोड़ दिया। पीड़िता के मुतबिक रेप की घटना के बाद आरोपी ने उसका मोबाइल से वीडियो भी बनाया और किसी से बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी।पीड़िता के बयान पर गोपालगंज महिला थाना में दलित नाबालिग के साथ रेप की प्राथमिकी दर्ज की गई, लेकिन तीन माह बीत जाने के बाद भी सभी आरोपी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। वही, गोपालगंज पुलिस की सुस्ती की वजह ने बलातकारी दबंग द्वारा लगातार पीड़िता के परिजनों को जान से मारने की धमकी की वजह से पूरा परिवार डर के साए में जीने को मजबूर है, साथ ही हर पल किसी अनहोनी की भय से सहमा हुआ है।

Share This Post

Post Comment