एक डीएसपी का तबादला, 1 इंस्पेक्टर, 1 एसआई व 6 सिपाही निलंबित

धारवाड़, कर्नाटक/जनक सिंहः महादयी पंचाट के फैसले के खिलाफ गत शनिवार को हुए राज्यव्यापी बंद के दौरान धारवाड़ जिलों में ग्रामीणों की बर्बरतापूर्वक पिढ़ाई के मामले में तीन जिलों के आठ पुलिस कर्मियों को निलंबित किया गया है। तथा एक डीएसपी का तबादला किया गया। धारवाड़ के नवलगुंद थाने के निरीक्षक अरूण कुमार हप्पाली, उप निरीक्षक शिवयोगी व दो सिपाही एमएस चैडणवर, उमेश मडिवाल, बेलगारी जिले के दो सिपाही शिवा नरगुंद, मलप्पा गुदली और विजयपुर जिले के दो सिपाही बीएन लोगावी तथा एलएफ स्वामी को निलंबित किया गया। व उपाधिक्षक शरणप्पा ओलेकार का तबादला किया है। विभिन्न समाचार चैनलों पर प्रसारित किये गए घटना से संबंधित समाचारों की वीडियो रिकाॅर्डिंग देखने के बाद इनकी पहचान की गई। कर्नाटक राज्य पुलिस आरक्षी बल के अतिरिक्त पुलिस महा निदेशक कमल पंत को मामले की सरकार इस मामले में बड़ी संख्या में पुलिस कर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की तैयारी कर रही है। पुलिस पर आरोप है कि उसने शांति पूर्ण तरीके से धरना दे रहे किसानों पर निर्दया पूर्ण तरीके से लाठी भंजी तथा घरों में घुस कर वृद्ध महिलाओं तथा वृद्धों पर व गर्भवाती महिलाओं की बर्बर तरीके से पिटाई की गई। जिससे पूरे राज्य में जबरदस्त रोष व्याप्त है। राज्य के ग्रह मंत्री ने गर्भवती महिला की पिटाई पर खेद व्यक्त किया है। मामले के जांच कर्ता कमल पंत ने मंगलवार को यमनूर गांव पहुंचे तथा गर्भवती महिला को सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया।

Share This Post

Post Comment